झारखण्ड : शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो के नातिनी का डीपीएस स्कूल से नाम कटा ,जांच करने स्कूल पहुंचे मंत्री

निजी स्कूलों की मनमानी का दंश झारखण्ड के शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो को झेलना पड़ा है.दरअसल उनकी नातिनी डीपीएस बोकारो में पढ़ती है.कोरोनाकाल में फीस जमा नहीं करने पर उनका नाम काट दिया गया.इसकी सूचना जैसे ही मंत्री को मिली,मंत्री जी स्कूल पहुँच गये.अब उन्हें  निजी स्कूलों और बच्चों के अभिभावकों की समस्या पूरी तरह समझ में आ गई है। उन्होंने स्कूल के काउंटर पर खड़ा होकर नतिनी का अप्रैल से सितंबर 2020 तक प्रत्येक महीने  के 3,800 रुपए के हिसाब से 22,800 रुपए शिक्षण शुल्क जमा किया। इसके बाद उन्होंने स्कूल की प्रभारी प्राचार्य शैलजा जय कुमार से नतिनी के नाम काटने से संबंधित जानकारी हासिल की। प्रभारी प्राचार्य ने उनकी नतिनी का नाम काटने से इनकार किया। इसके पश्चात मंत्री वहां से निकल गए।स्थानीय परिसदन में जागरण से वार्ता के क्रम में मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा कि उनकी बेटी रीना बोकारो इस्पात नगर में रहती हैं। नतिनी रिया डीपीएस चास में कक्षा चतुर्थ में अध्ययनरत है। बेटी ने दूरभाष पर दो दिन पूर्व नतिनी के शिक्षण शुल्क नहीं जमा करने पर नाम काटने से संबंधित जानकारी दी। इस पर उन्होंने स्कूल प्रबंधन से दूरभाष पर बातचीत की और कहा कि वे कुछ दिन बाद शिक्षण शुल्क जमा कर देंगे। बाद में बेटी ने दूरभाष पर जानकारी दी कि स्कूल प्रबंधन ने ऑनलाइन कक्षा से नतिनी का नाम काट दिया है। इसलिए वे स्कूल पहुंचे और नतिनी का शिक्षण शुल्क जमा कर दिया। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वे मंत्री नहीं अपितु अभिभावक के रुप में स्कूल गए थे। निजी विद्यालयों के विरोध में कई प्रकार की शिकायतें मिल रही हैं। इसलिए इस संबंध में भी जानकारी हासिल की। अभिभावकों को किस प्रकार की दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है, इसका भी अनुभव करने फीस जमा करने के लिए स्वयं स्कूल गए। हालाकि स्कूल प्रबंधन ने नतिनी का नाम काटने से इनकार किया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *