अब जदयू ने उठाई बिहार को स्पेशल स्टेट्स देने की मांग

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू का विशेष राज्य का दर्जा दिए जाने की मांग को लेकर बीजेपी पहले ही असमंजस में है उसे समझ नहीं आ रहा की किस प्रकार इस संकट का समाधान निकाला जाए, उधर इसी बीच एनडीए का एक दूसरा पार्टनर जदयू भी बिहार के लिए विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग कर बैठा।

विशेष राज्य को लेकर शुरू हुई इस सियासी जंग की आहट अब बिहार में भी सुनाई पड़ रही है। नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड ने एक बार फिर से बिहार के लिए विशेष राज्य के दर्जे की मांग को दोहराया है। पार्टी के पूर्व राज्यसभा सांसद और राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन वर्मा ने इस मांग को उठाया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक पवन वर्मा ने कहा है कि आखिर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा क्यों नहीं मिल रहा है। पवन वर्मा ने कहा है कि बिहार को विशेष राज्य का दर्जा केन्द्र सरकार क्यों नहीं दे रही है, जबकि नीतीश कुमार बहुत पहले से इस मांग को उठा रहे हैं।

बता दें कि नीतीश कुमार लंबे समय से बिहार के लिए विशेष राज्य के दर्जे की मांग कर रहे हैं। नीतीश कुमार ने पिछला चुनाव भी इसी एजेंडे पर लड़ा था। हालांकि, जब नीतीश कुमार एनडीए के पाले में आ गए और बिहार में बीजेपी के साथ सत्ता में हैं तो ये मांग धीमी पड़ गई है। कहा जा रहा है कि पवन वर्मा की इस मांग का ज्यादा महत्व नहीं है, क्योंकि पवन वर्मा फिलहाल नीतीश कुमार और जेडीयू नेतृत्व से बागी रुख अख्तियार किए हुए हैं। नीतीश कुमार द्वारा बीजेपी के साथ दोस्ती गांठने के बाद पवन वर्मा के रुख में बदलाव आया है। बिहार से आ रही खबरों के मुताबिक, जनता दल यूनाइटेड पवन वर्मा को राज्य सभा में दोबारा नहीं भेजने वाली है। इसलिए उनके द्वारा बिहार के लिए उठाई गई स्पेशल स्टेट्स की मांग को जदयू का आधिकारिक पक्ष नहीं माना जा सकता है। हालांकि, इतना जरूर है कि पवन वर्मा ने इस मांग को उठाकर राजद समेत बिहार की कई स्थानीय पार्टियों को नीतीश कुमार पर हमले का मौका दे दिया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *