राजद राज में दलितों पर हुए अत्याचार के लिए मांफी मांगे तेजस्वीः जदयू

जदयू ने राजद के न्याय यात्रा को लेकर बड़ा हमला किया है। पार्टी ने राजद पर दलितों के ऊपर हुए अत्याचार और हत्याओं का दोषी ठहराया है। इसके साथ ही सीधे तौर पर ये आरोप लगाया है कि सूबे में दलितों के पिछड़ेपन की पीछे राजद का ही हाथ है। लालू-राबड़ी के शासन काल को दलित विरोधी बताते हुए जदयू ने इसके लिए राजद नेता तेजस्वी को मांफी मांगने को कहा।

दरअसल, तेजस्वी यादव के न्याय या़त्रा के दौरान दरभंगा में मुसहर सम्मेलन में भाग लेने पर जदयू के विधान पार्षद नीरज कुमार ने कहा कि राजद के दागी युवराज तेजस्वी प्रसाद यादव आज दरभंगा में मुसहर सम्मेलन में भाग ले रहे हैं। उन्हें यह मालूम होना चाहिए कि उनके पिता लालू प्रसाद जी और माता राबड़ी जी के शासनकाल में नरसंहार के दौरान जिन 378 दलित समुदाय से आने वाले लोगों की हत्या की गई थी ।

उन्होंने कहा कि तेजस्वी राजद के उस शासनकाल का दर्द आप क्या जानें, आप तो सोने का चम्मच लेकर इस दुनिया में आए और उसमें भी जो कमी रही, उसे आपके पिताजी ने अन्य लोगों को नौकरी और पद देने के नाम पर बेनामी सपंत्ति के रूप में आपको दे दी। आज आप मुसहर सम्मेलन में लोगों को अपनी बात कहने गए हैं। राजद के शासनकाल में 46 नरसंहार के मामलों में 378 बेकसूरों की हत्या कर दी गई थी। आपके पिता और मां ने अब तक उन परिवारों से माफी नहीं मांगी, लेकिन ये तो सभी जानते हैं आप उन्हीं की विरासत संभाल रहे हैं।

आप भी उनकी तरह ही बेनामी संपत्ति के मालिक बन रहे हैं, तो आज इस सम्मेलन में उन परिवारों से माफी मांग लीजिए। उन्होंने कहा कि राजद के शासनकाल में भोजपुर, अरवल, पटना, जहानाबाद , नालंदा , गया, रोहतास, सीवान, लखीसराय, औरंगाबाद, बेगूसराय, भागलपुर तथा पूर्णिया में नरसंहार की घटनाएं हुई थी। जिसमें 378 दलित समुदाय के लोगों की हत्या हुई थी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *