ओडिशा के तट से टकराया फानी, बिहार में भी इसका प्रभाव, झारखंड में दो दिनों तक स्कूल बंद

चक्रवाती तूफान फानी ओडिशा के तट पर पहुंच गया है। यहां 175 किलोमीटर की सफ्तार से हवा चल रही है। लगातार हो रही बारिश के कारण जन-जीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। पुरी के तटों पर भूस्खलन शुरू हो रहा है। ओडिशा में एहतियात के तौर पर 15 जिलों से 11 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचा दिया गया है। आपदा प्रबंधन की टीम तूफान से निपटने के लिए तैयार है। फानी की वजह से रेल, सड़क और हवाई यातायात पर प्रभाव पड़ा है। पिछले 43 सालों में अप्रैल माह में भारत के पड़ोसी समुद्री क्षेत्र में उठा इतनी तीव्रता का यह पहला तूफान है।

पूर्वी बिहार के कई इलाकों में फानी चक्रवात के चलते अगले 36 घंटे में भारी बारिश की संभावना जताई जा रही है। मौसम विभाग का कहना है कि प्रदेश के कई जिलों में आंशिक बरसात हो सकती है। विरिष्ठ मौसम वैज्ञानी आनंद शंकर ने बताया कि फानी की रफ्तार तेज हो गयी है और इसका सीधा असर बिहार में देखा जा सकता है।

चक्रवाती तूफान फानी का झारखंड में प्रभाव दिखने लगा है। फानी के असर से राजधानी रांची सहित कई जिलों में लगातार बारिश हो रही है। चक्रवाती तूफान फानी को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उच्चस्तरीय बैठक के बाद एनडीआरएफ की दो टीमें राहत और बचाव के लिए झारखंड में मुस्तैद की गई है।

फानी तूफान की संभावना को देखते हुए पूर्वी सिंहभूम के सरकारी और गैर सरकारी स्कूलों को दो दिनों तक बंद रखने का फैसला जिला प्रशासन ने लिया है। यहां के सारे स्कूल तीन एवं चार मई को बंद रहेंगे। स्कूलों में शिक्षकों ने क्लास रूम के ब्लैक बोर्ड पर दो दिनों तक स्कूल बंद रखने की सूचना लिखी। नर्सरी से पांचवीं कक्षा तक के बच्चों को लिखित नोटिस दिया गया है।

कोल्हान में होने वाली पीएम की चुनावी सभा को 5 मई के जगह पर 6 मई कर दिया गया है। वही, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सभा को स्थगित कर दी गई है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *