अवैध प्रवासियों के लिए धर्मशाला बन गया है भारत- राम माधव

एनआरसी के मुद्दे को लेकर सियासत अभी तक गरमाई हुई है। सत्ताधारी बीजेपी इसे ठंडा नहीं होने देना चाहती है। बीजेपी के महासचिव राम माधव ने एक बार फिर इसको लेकर बयान दिया है। राम माधव ने कहा है कि असम में एनआरसी की अंतिम सूची में जो लोग शामिल नहीं होंगे उनका वोटिंग अधिकार छीन लिया जाएगा। उन्हें देश से बाहर निकाल दिया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक राम माधव ने एक सेमिनार में कहा कि 1985 में हुए असम समझौते के तहत एनआरसी को अपडेट किया जा रहा है, जिसके तहत सरकार ने राज्य के सभी अवैध प्रवासियों का पता लगाने और उन्हें देश से बाहर निकालने की प्रतिबद्धता जाहिर की थी।
उन्होंने कहा, ‘‘एनआरसी से सभी अवैध प्रवासियों की पहचान सुनिश्चित हो सकेगी। अगला कदम मिटाने का होगा, यानी अवैध प्रवासियों के नाम मतदाता सूची से हटा दिए जाएंगे और उन्हें सभी सरकारी लाभों से वंचित कर दिया जाएग। इसके अगले चरण में अवैध प्रवासियों को देश से बाहर कर दिया जाएगा।’’

अवैध प्रवासियों को देश से बाहर निकाले जाने पर भारत को अंतरराष्ट्रीय आलोचना का सामना करने की स्थिति की बात कहने वालों पर निशाना साधते हुए माधव ने कहा कि बांग्लादेश भी म्यांमार के साथ सक्रिय बातचीत कर रहा है ताकि लाखों रोहिंग्या लोगों को वहां से बाहर निकाला जा सके। म्यांमार में अत्याचार का शिकार होने के बाद लाखों रोहिंग्या मुसलमानों ने बांग्लादेश में शरण ले रखी है।
माधव ने कहा कि दुनिया में कोई भी देश अवैध प्रवासियों को बर्दाश्त नहीं करता, लेकिन भारत राजनीतिक कारणों से अवैध प्रवासियों के लिए धर्मशाला बन गया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *