जम्मू-कश्मीर में बीजेपी-पीडीपी गठबंधन टूटा

जम्मू-कश्मीर के बीजेपी नेताओं के साथ राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की एक अहम बैठक के बाद जम्मू-कश्मीर में बीजेपी ने पीडीपी से समर्थन वापस ले लिया है। बताया जा रहा है कि इस बैठक में प्रदेश अध्यक्ष रविन्द्र रैना, डिप्टी सीएम कवींद्र गुप्ता समेत संगठन मंत्री और राज्य में बीजेपी कोटे के मंत्री इस मौजूद थे।
बैठक के बाद बीजेपी महासचिव राम माधव ने पत्रकारों को कहा कि घाटी में हालात बेहद खराब हैं। उन्होंने कहा कि बैठक में राज्य सरकार के पिछले तीन साल के कामकाज की चर्चा की गई। इसके बाद यह फैसला लिया गया कि पीडीपी के साथ गठबंधन जारी रखना मुश्किल है। इसके साथ ही बीजेपी ने सीएम महबूबा पर यह आरोप लगाया कि वे अपना दायित्व निभाने में नाकाम रहीं। उन्होंने श्रीनगर में वरिष्ठ पत्रकार शुजात बुखारी की हत्या का भी जिक्र किया।
बताया जा रहा है कि बीजेपी के मंत्रियों ने राज्यपाल के पास अपना इस्तीफा भेज दिया है। गठबंधन में असहजता के मुद्दे पर बीजेपी महासचिव राम माधव ने कहा कि प्रदेश सरकार में बीजेपी के मंत्रियों को काम करने का पूरा मौका नहीं मिला। पीडीपी ने अड़चन डालने का काम किया। सस्पेंशन ऑफ ऑपरेशन के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि यह केंद्र सरकार का गुडविल जेस्चर था। यह फैसला केंद्र सरकार की मजबूरी नहीं थी।
बीजेपी ने प्रदेश में राज्यपाल शासन लगाने की मांग की है। बकौल राम माधव 'गठबंधन वापस लेने का फैसला देशहित में लिया गया है। यह फैसला बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और पीएम मोदी से मशविरा करने के बाद लिया गया है। बीजेपी ने राज्यपाल के पास समर्थन वापस लेने की चिट्ठी भेज दी है।'
बता दें कि इससे पहले कश्मीर मुद्दे को लेकर आज अजित डोवाल ने भी अमित शाह से मुलाकात की। 23 जून को श्यामा प्रसाद मुखर्जी की पुण्यतिथि है और अमित शाह को जम्मू कश्मीर का दौरा करना है इस बैठक में सारी तैयारियां पर चर्चा की जाएगी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *