‘सरकार नहीं मानी तो आगे बढ़ सकता है चक्का जाम आंदोलन’

ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस के देशव्यापी चक्का जाम का व्यापक असर झारखंड में सुबह से ही दिखना शुरू हो गया। राजधानी रांची में झारखंड मोटर फेडरेशन और झारखंड बस ऑनर्स एसोसिएशन ने शुक्रवार सुबह चक्का जाम को लेकर पंडरा बाजार से रैली निकाली। पंडरा से पैदल मार्च करते हुए व्यवसायी और मोटिया-मजदूर राजभवन तक पहुंचे। उन्होंने अपनी मांगों के समर्थन में नारेबाजी भी की। राजधानी की कई सड़कों पर व्यावसायिक वाहन नहीं दिख रही जिससे यात्रियों और ऑफिस जाने वालों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। उधर, पंडरा बाजार समिति के व्यवसायियों ने अपनी दुकानों में ताला लगा दिया है, क्योंकि बाजार समिति में माल की लोडिंग और अनलोडिंग पूरी तरह ठप है।
फेडरेशन के अध्यक्ष ललित ओझा ने कहा है कि राज्य सरकार ने उनकी मांगें नहीं मानी तो चक्का जाम आंदोलन को और आगे बढ़ाया जा सकता है। चक्का जाम का समर्थन यात्री टेम्पो चालक संघ, मालवाहक टेम्पो संघ, बस ऑनर्स एसोसिएशन, गुड्स ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन और हटिया गुड्स एसोसिएशन के साथ अन्य परिवहन संगठन समर्थन भी कर रहे हैं।
क्या है मांग
डीजल को जीएसटी के दायरे में लाया जाए।
बसों और पर्यटन वाहनों के लिए नेशनल परमिट दिए जाएं।
टोल बैरियर पर भ्रष्टाचार, इसकी व्यवस्था बदली जाए।
आयकर में संशोधन किया जाए।
देश की 19 बंदरगाहों पर कंजेक्शन चार्ज खत्म हो।
थर्ड पार्टी बीमा प्रीमियम व एजेंटों के कमीशन में कमी की जाए।
ट्रांसपोर्ट व्यवसाय में टीडीएस को खत्म किया जाए।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *