यह कैसा न्याय, लालू को जेल, जगन्नाथ को बेल : रघुवंश

आरजेडी प्रमुख लालू यादव को चारा घोटाले के एक अन्य मामले में रांची में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने दोषी करार दिया है. इस मामल में 22 लोगों को आरोपी बनाया गया था. जिनमें से 15 को दोषी करार दिया गया. इस मामले में 7 अन्य आरोपियों को कोर्ट ने बरी कर दिया है. जिसमें बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र को बरी कर दिया है. आरजेडी के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री रघुवंश प्रसाद सिंह ने कहा कि यह कैसा न्याय, लालू यादव को जेल, जगन्नाथ मिश्र को बेल, यही है नरेंद्र मोदी का खेल.

लालू यादव के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से फैसले के बाद ट्वीट किया गया 'झूठे जुमले बुनने वालों सच अपनी ज़िद पर खड़ा है।धर्मयुद्ध में लालू अकेला नहीं पूरा बिहार साथ खड़ा है।'
लालू यादव को दोषी करार दिए जाने पर आरजेडी प्रवक्ता मनोज झा ने कहा कि जो फैसला आया है हम इससे थोड़े क्षुब्द है लेकिन हम बिलकुल चौंके हुए हैं ऐसा नहीं है, मनोज झा ने कहा कि हम पिछले 22 वर्षों से इसे झेल रहे हैं.

मनोज झा ने कहा कि तेरा निजाम है सिर दे जुबान शायर की.... मनोज झा ने कहा कि क्या माजरा है कि दलित नेताओं, पिछड़े नेताओं को ऐसे मामलों में फंसाया जाता है. मनोज झा ने सीबीआई पर निशाना साधते हुए कहा कि यह तो पिंजरबंद तोता था यह चिप से काम कर रहा है, यह चिप लगी है 11 अशोक रोड़ दिल्ली (बीजेपी मुख्यालय) से. जो इनके पास जाकर नतमस्तक हो जाता है वो धुल जाता है. जो नहीं जाता वह फंस जाता है.
मनोज झा ने कहा कि अवैध निकासी पर जिस आदमी ने एफआईआर करवाया आप उसी को घेर रहे हो. सृजन घोटाला 2 हजार करोड़ का घोटाला है. यह अवैध निकासी का मसला, जब से यह घोटाला हुआ है एक ही व्यक्ति मुख्यमंत्री और वित्त मंत्री बना हुआ है. न्यायिक प्रकिया किसी के आगे झुकेगी नहीं. लेकिन सियासत कहां जाकर रुकेगी?

बीजेपी सांसद अश्विनी चौबे ने कहा कि बिहार की जनता का गरीबों का हक मिलना चाहिए. न्यायालय के निर्णय पर बिहार की गरीब जनता में बहुत खुशी है. जो पैसा चोरी किया गया था वह पैसे वापस खजाने में जमा हो.
जेडीयू नेता केसी त्यागी ने कहा कि यह दूसरी अदालत है जिसने लालू यादव को सजा सुनाई है. जगन्नाथ मिश्रा के कार्यकाल का घोटाला इतना बड़ा नहीं था जितना लालू यादव के कार्यकाल है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *