फादर अल्फांसो के खिलाफ कार्रवाई करे सरकारः एबीवीपी

एबीवीपी ने आज खूंटी में हुए सामूहिक बलात्कार के दोषियों पर अभिलंब कार्रवाई करने और मामले में जुड़े संस्थानों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की है। इस मामले को लेकर एबीवीपी के प्रांत सह मंत्री आशुतोष सिंह के नेतृत्व में ज़िला स्कूल मैदान से राजभवन तक आक्रोश मार्च निकाला गया और राज्यपाल ज्ञापन भी सौंपा गया।
इस मौके पर एबीवीपी के प्रांत संगठन मंत्री याज्ञवल्क्य शुक्ल ने कहा कि पत्थलगड़ी की आड़ में दुराचार स्वीकार नहीं है। चर्च एवं नक्सली राज्य को अस्थिर करने का जो प्रयास कर रहे हैं। उसे एबीवीपी कभी पूरा नहीं होने देगी। खूंटी की घटना सामान्य घटना नहीं है। चर्च से प्रेरित असामाजिक तत्व पत्थलगड़ी की आड़ में झारखंड की अस्मिता के साथ खेलने का जघन्य अपराध कर रहे हैं। उन्होंने सवाल करते हुए कहा कि चर्च और नक्सली के बीच आखिर क्या संबंध है? यदि पत्थलगड़ी की आड़ में क्यों दुष्कर्म जैसी घटनाओं को किया जा रहा है फिर अपराधियों का बचाव किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि एबीवीपी मांग करती है कि इस घटना को हल्के में नहीं लेते हुए सरकार फादर अल्फांसो सहित सभी दुष्कर्मियों को फांसी की सजा दे नहीं तो महिला की सुरक्षा को लेकर बड़ा आंदोलन किया जाएगा।
वहीं एबीवीपी के प्रदेश कार्यसमिति सदस्य अशोक मुंडा ने कहा की खूंटी में चर्च की सच्चाई सबके सामने है। उनके द्वारा पत्थलगड़ी की आड़ में जनजातीय समुदाय का खुलेआम शोषण किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पूरे राज्य में चर्च द्वारा सरकार को अस्थिर करने की मंशा से काम किया जा रहा है।
बता दें कि खूंटी गैंग रेप की घटना को लेकर निकाले गए आक्रोश मार्च के दौरान लगभग 400 की संख्या में छात्र और छात्राएं उपस्थित थीं। इस दौरान उन्होंने पत्थलगड़ी की आड़ में चर्च सहित अन्य संगठनों द्वारा जनजातीय शोषण के विरोध में नारे भी लगाये। वहीं इस दौरान फादर अल्फांसो को सजा देने की मांग भी की गई।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *