गिरती शिक्षा व्यवस्था के लिए सरकार जिम्मेदार : तेजस्वी

बिहार में इंटर का रिजल्ट आने के बाद से छात्रों का हंगामा बिहार इंटर काउंसिल के सामने लगातार जारी है। छात्रों का आरोप है कि उनके रिजल्ट में जो भी गड़बड़ी की गई है। उसकी सुनवाई करने वाला कोई नहीं है । वहीं इस मामले पर आज विपक्ष के नेता और बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने राज्यपाल सत्यपाल मलिक से मुलाकात कर बिहार में गिरती शिक्षा व्यवस्था से अवगत कराया है।
तेजस्वी ने बिहार विद्यालय परीक्षा समिति के अध्यक्ष आनंद किशोर को निशाने पर लेते हुए कहा कि रिजल्ट में लगातार गड़बड़ी हो रही है। परेशान छात्र सड़क पर हैं। लेकिन सरकार अधिकारियों पर कार्रवाई नहीं कर रही है। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि बोर्ड के अध्यक्ष नीतीश के चहेते अधिकारी हैं। इसलिए उन पर कार्रवाई नहीं हो रही है। तेजस्वी ने आरसीपी सिंह पर हमला बोलते हुए कहा कि आनंद किशोर आरसीपी टैक्स का भुगतान करते हैं। जब तक आरसीपी टैक्स बंद नहीं होगा । तब तक स्थिति में सुधार नहीं होगा। शराबबंदी में बदलाव की चर्चा को लेकर तेजस्वी ने नीतीश पर निशाना साधते हुए कहा कि हमारे चाचा पलटी मार हैं । हमेशा पलटी मारते रहते हैं। इस बार के साइंस की इंटर टॉपर कल्पना कुमारी के कक्षा में उपस्थिति को लेकर उत्पन्न विवाद के संबंध में बोर्ड के अध्यक्ष आनंद किशोर ने कहा कि इंटर की कक्षा में नियमित उपस्थिति को लेकर कोई कट ऑफ नहीं है । अलग-अलग विद्यालय अपने स्तर पर यह तय करते हैं। लेकिन उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि सरकारी योजनाओं के लिए जैसे पोशाक, साईकिल आदि योजनाओं के लिए 75% उपस्थिति जरूरी है। बोर्ड अध्यक्ष आनंद किशोर के बयान से एक बार फिर विवाद खड़ा हो सकता है और कई सवाल पैदा कर सकता है। क्या सरकारी स्कूल महज सरकारी योजनाओं के लिए ही खोली गई हैं या फिर छात्र-छात्राओं के भविष्य को लेकर उनमें पढ़ाई की भी व्यवस्था होनी चाहिए। उनके इस बयान से नीतीश सरकार पर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। अगर उनके इस बयान को सच माना जाए तो बिहार दुनिया का इकलौता राज्य होगा जहां पढ़ाई को लेकर अनुपस्थिति अनिवार्य नहीं की गई है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *