गिरिराज को मौलाना ने कहा, राम के नहीं मोहम्मद साहब के वंशज हैं

राम मंदिर मुद्दे को लेकर पूरे देश में मामला गरमाया हुआ है, इस विवाद को सुलझाने के लिए कई लोग अपने-अपने स्तर से कोशिश कर रहे हैं। इन सब के बीच केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के बयान पर फिर हंगामा मच गया है। उन्होंने मथुरा के एक निजी कार्यक्रम में कहा, 'भारत के मुसलान भी भगवान राम के वंशज हैं, कोई मुसलमान बाबर का वंशज नहीं है, मुसलमानों और हमारे पूर्वज एक हैं। इसलिए राम मंदिर अयोध्या में ही बनेगा।’

हालांकि उनके इस बयान का मौलानाओं ने तीखा विरोध जताया है। सहारनपुर के एक मौलाना ने कहा कि हम लोग राम के नहीं बल्कि मोहम्मद साहब के वंशज हैं। मौलाना ने कहा कि इस्लाम तलवार की धार पर नहीं बल्कि मोहब्बत और प्यार के दम पर फैला है। मौलाना ने कहा कि गिरिराज ने जो कहा, वह उनकी मानसिकता को दर्शाता है, हम उनके बयानों से इत्तफाक नहीं रखते।

सहारनपुर के फतवा ऑन मोबाइल सर्विस के चेयरमैन मुफ्ती अरशद फारुकी ने कहा कि गिरिराज जैसे लोग मीडिया में चर्चा पाने के लिए ऐसी बयानबाजी करते हैं। उन्होंने कहा कि मुस्लिम खुद को आदम की औलाद मानते हैं। क्या गिरिराज स्वयं को मुसलमान कहेंगे। फारुकी ने कहा कि मंदिर-मस्जिद विवाद का मामला कोर्ट में हैं। लिहाजा इस पर बयानबाजी करना उचित नहीं है। वहीं इस्लामी विद्वान मौलाना अशरफ कासमी ने कहा कि मुसलमान बाबर की नहीं बल्कि आदम की औलाद हैं।

उधर, मौलाना अरशद मदनी ने कहा कि राम की औलाद कहने पर हमें एतराज नहीं है। मेरा सवाल है कि अगर सभी राम की औलाद हैं तो फिर दलितों के साथ क्यों भेदभाव हो रहा है, उन्हें दलित क्यों कहा जाता है, उन्हें मुख्यधारा से क्यों नहीं जुड़ने दिया जाता। मौलाना मदनी ने गिरिराज की इस बयानबाजी के पीछे कहा कि लगता है कि चुनाव का मामला है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *