बिहार में बाढ़ की स्थिति गंभीर,केंद्र ने मदद का दिया भरोसा

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने रविवार को बिहार में बाढ़ को लेकर गंभीर हो रही स्थिति के मुद्दे पर राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से बात की है. केंद्रीय गृहमंत्री ने कहा कि उन्होंने बिहार में महानंदा नदी के बढ़ते जल स्तर के बारे में प्रदेश के सीएम नीतीश से बातचीत कर ताजा हालात के बारे में जानकारी लिया है. उन्होंने कहा कि इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को बिहार के लोगों की सुरक्षा के लिए केंद्र की ओर से हरसंभव मदद का आश्वासन दिया है. अमित शाह ने कहा कि मोदी सरकार बिहार के लोगों के साथ मजबूती से खड़ीमालूम हो कि बिहार में कटिहार जिले में गंगा, महानंदा व कोसी नदियों का जलस्तर तेजी से बढ़ रहा है. इससे देखते हुए लगता है कि बाढ़ इस वर्ष समय से पूर्व ही दस्तक दे देगी. कटिहार जिले के महानंदा नदी का जलस्तर शनिवार को खतरे के निशान से उपर बह रही है. जबकि गंगा, कोसी व बरंडी नदी भी चेतावनी स्तर तक पहुंचने को आतुर है. महानंदा नदी के जलस्तर में वृद्धि होने से आजमनगर, कदवा, प्राणपुर, बलरामपुर आदि प्रखंड के दर्जनों गांव के निचले हिस्से बाढ़ के पानी की चपेट में आ चुका है. जलस्तर में वृद्धि से स्पर व तटबंध पर कटाव का खतरा उत्पन्न हो गयी है.

कटिहार जिले में पिछले आठ दिन से रुक-रुककर हो रही बारिश की वजह से जलस्तर में और वृद्धि होने की संभावना है. बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के अनुसार जिले के महानंदा, गंगा, कोसी व बरंडी के जलस्तर में शनिवार को वृद्धि दर्ज की गयी है. बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल की मानें तो महानंदा नदी आजमनगर व धबौल में खतरे के निशान से क्रमशः तीन एवं 26 सेंटीमीटर ऊपर बह रही है. जबकि, दुर्गापुर में यह नदी तीन सेंटीमीटर लाल निशान से ऊपर है. यह नदी कई स्थानों पर खतरे के निशान से ऊपर होने के लिए आतुर है. जलस्तर में लगातार हो रही वृद्धि से महानंदा तटबंध के भीतर बसे लोगों के बीच परेशानी बढ़ गयी है.महानंदा नदी के जलस्तर में शनिवार को भी वृद्धि दर्ज की गयी. जबकि गंगा, कोसी व बरंडी नदी के जलस्तर में भी लगातार वृद्धि दर्ज की गयी है. पिछले 12 घंटे के दौरान महानंदा नदी का जलस्तर में सभी स्थानों पर पांच से 10 सेंटीमीटर की वृद्धि दर्ज की गयी है. बाढ़ नियंत्रण प्रमंडल के अनुसार महानंदा नदी झौआ में शुक्रवार की शाम जलस्तर 31.17 मीटर था, जो शनिवार की सवेरे बढ़कर जलस्तर 31.22 मीटर हो गया. इसी नदी के बहरखाल में जलस्तर 30.85 मीटर था, जो 12 घंटे बाद बढ़कर 30.85 मीटर हो गया.

कुर्सेल में शुक्रवार की शाम 31.06 मीटर था, जो शनिवार की सवेरे बढ़कर 31.11 मीटर हो गया. इसी नदी के दुर्गापुर में जलस्तर 28.05 मीटर था, जो 12 घंटे बाद जलस्तर 28.08 मीटर हो गया. गोविंदपुर में इस नदी का जलस्तर 25.94 मीटर था, जो शनिवार की सवेरे बढ़कर 25.97 मीटर हो गया. इस नदी का जलस्तर आजमनगर में 29.85 मीटर था, जो बढ़कर 29.92 मीटर हो गया. धबोल में इस नदी का जल स्तर शुक्रवार की शाम 29.35 मीटर था.12 घंटे बाद यानी शनिवार की सवेरे यहां का जलस्तर बढ़कर 29.40 मीटर हो गया.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *