अररिया सीट पर राजद और कांग्रेस की भिड़ंत

राजद के नेता तसलीमुद्दीन के निधन से खाली हुई अररिया लोकसभा सीट को लेकर राजद और कांग्रेस में तनातनी बढ़ गई है। बिहार कांग्रेस के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अशोक चौधरी ने गुरुवार को कहा कि अररिया सीट कांग्रेस को मिलनी चाहिए। उसके बाद राजद के नेता शिवानंद तिवारी ने भी अररिया सीट पर अपना दावा कर दिया।

लेकिन कांग्रेस के प्रभारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने कहा कि अररिया सीट पर राजद और कांग्रेस मिलकर सहमति बनाएंगे। उन्होंने अशोक चौधरी को इस प्रकार के बयान से परहेज करने को कहा।

डॉ. अशोक चौधरी ने कहा कि अभी कांग्रेस ने गुरुदासपुर और उसके बाद चित्रकुट में भारी जीत दर्ज की। अशोक चौधरी का कहना है कि अगर पार्टी अररिया सीट जीतती है तो भाजपा के खिलाफ राष्ट्रीय स्तर पर संदेश जाएगा।

अशोक चौधरी के इस बयान के तुरंत बाद ही कौकब कादरी का बयान आया कि अररिया सीट पर जो भी फैसला होगा वह बिहार के कांग्रेस प्रभारी, पार्टी की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी करेंगे।

अररिया सीट का प्रत्याशी कौन होगा इसका फैसला राजद प्रमुख लालू यादव के साथ बैठक करने के बाद ही तय होगा। अशोक चौधरी के इस बयान से ये तो साफ़ साफ़ पता चल रहा है कि वो राजद और कांग्रेस से दूरी बनाना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी लाइन से बाहर जाकर बयान देना ठीक नहीं।

अशोक चौधरी के इस बयान के बाद राजद नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि इस मामले में डॉ. चौधरी को बोलने का कोई अधिकार नहीं है। सीट पर किसका प्रत्याशी होगा इसका फैसला लालू प्रसाद और सोनिया गांधी करेंगे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *