विप्लव देव को मिल सकती है त्रिपुरा की कमान !

अभी तक त्रिपुरा में अपना खाता नहीं खोल पाई बीजेपी इस चुनाव में यहाँ सरकार बनाती दिख रही है. मतगणना के नतीजों के अनुसार भाजपा त्रिपुरा की 60 में से 37 सीटों पर जीत दर्ज करती नजर आ रही है. इन नतीजों से भाजपा कार्यकर्ता आज दोबारा होली खेल रहे हैं. त्रिपुरा से लेकर दिल्ली मुख्यालय तक पार्टी जीत के जश्न में डूब गयी है. हो भी क्यों ना...मानिक सरकार को इतनी बुरी तरह हराना सचमुच ऐतिहासिक है. 

पार्टी त्रिपुरा में मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित किए बिना ही चुनावी दंगल में उतरी थी. हालांकि पार्टी के पास सीएम पद के लिए चेहरे भी थे. बावजूद इसके पार्टी ने अधिकांश राज्यों की तरह मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित किए बिना ही चुनाव में उतरने का निर्णय लिया. 

लेकिन फिलहाल जीत की ओर अग्रसर भाजपा के लिए सबसे बड़ा सवाल यह है कि त्रिपुरा में मुख्यमंत्री किसे बनाया जाएगा! इस बीच प्रदेश भाजपा अध्यक्ष विप्लव देव का नाम मुख्यमंत्री पद के दावेदारों में सबसे आगे चल रहा है. वो अमित शाह के भरोसेमंद बताये जाते हैं.



सूबे के लोकप्रिय मुख्यमंत्री माणिक सरकार पर अब विप्लव देव का चेहरा जनता में ज्यादा लोकप्रिय माना जा रहा है. क्योंकि जिस तरह लोकसभा चुनाव के दौरान उन्हें प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की रणनीति के तहत अबतक उन्होंने अपने काम को जमीनी स्तर पर रखने में कामयाबी हासिल की है. पार्टी ने उन्हें वनमालीपुर विधानसभा सीट से उम्मीदवार घोषित किया है.


हालांकि भाजपा आलाकमान की संसदीय दल की बैठक के बाद ही इस पर फैसला लिया जायेगा कि किसे सीएम की कुर्सी पर बैठाया जाएगा. पिछले कुछ राज्यों में विधानसभा चुनावों में जीत के बाद पार्टी की तरफ से किसी अनजान चेहरे को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठा दिया गया है. ऐसे में अभी कयासों का बाज़ार भी गर्म है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *