सरकार की कार्यशैली से लोकतंत्र खतरे में- प्रदीप यादव

झाविमो नेता प्रदीप यादव ने सरकार की कार्यशैली पर सवाल उठाते हुए कहा कि जिस प्रकार से काम किया जा रहा है उससे न सिर्फ सदन बल्कि लोकतंत्र भी खतरे में पड़ता दिखाई दे रहा है। सरकार के संसदीय कार्यमंत्री ने यदि अपने पद इस्तीफा दे दिया है तो ये मामला और भी गंभीर हो जाता है।

झाविमो नेता ने कहा कि उन्होंने सदन में दो विषय को अध्यक्ष के समक्ष प्रस्तुत किया। पहला यह कि 6 बागी विधायकों का मामला अभी न्यायाधिकरण में चल रहा है, और ऐसे में कुछ समाचार पत्रों में ऐसी खबरें आ रही हैं कि सरकार विधानसभा अध्यक्ष को ही हटाना चाहती है। देखा जात तो मामला अपने-आप में बेहद संजीदा है, यह लोकतंत्र के लिए भी बड़ा खतरा है। उन्होंने कहा कि जब सुनवाई पूरी हो चुकी है और सभी गवाहों की गवाही हो चुकी है तो ऐसे में अंतिम समय में किसी विधानसभा अध्यक्ष को पद से हटाया जाना न्याय संगत नहीं है। इससे साफ जाहिर होता है कि सरकार की मंशा गलत है वह किसी खास मकसद से काम कर रही है।

वहीं उन्होंने कहा कि राज्य के स्थानीय नीति, नियोजन नीति, डीजीपी, एडीजी, सीएस के मामले पर सरकार भाग रही है। वह विपक्ष के सवालों का सही जवाब नहीं देना चाहती है। सरकार की नीतियों से क्रोधित हो कर संसदीय कार्यमंत्री सरयू राय ने अपना इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने विधानसभा अध्यक्ष को अपना सीट अलग करने के लिए भी लिखा है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *