पूर्णिया गुलाबबाग जीराेमाइल से दालकोला पूर्णिया मोड़ तक एनएच 31 के मरम्मती कार्य की हुई शुरूआत

कुमार गौरव,पूर्णिया 

एनएच 31 सड़क की मरम्मती का कार्य गुलाबबाग जीरोमाइल से दालकोला पूर्णिया मोड़ तक करीब 09 करोड़ की लागत से शुरू कर दिया गया है। इस संबंध में परियोजना निदेशक एनएचएआई (पीआईयू) ने पत्र प्रेषित कर जानकारी दी है कि पीएमओपीजी पोर्टल के माध्यम से पूर्णिया गुलाबबाग जीरोमाइल से दालकोला व पूर्णिया मोड़ तक जाने वाली एनएच 31 सड़क की मरम्मती के कार्य को हरी झंडी दिखा दी गई है। एनएच 31 मरम्मती निर्माण कार्य 2020-21 के लिए मेसर्स एचएस मेहता (संवेदक) को निविदा प्रक्रिया के तहत नियुक्त किया गया है। एनएचएआई पूर्णिया रेंज के प्रबंधक प्रमोद कुमार महतो ने बताया कि पूर्णिया गुलाबबाग जीराेमाइल से दालकोला पूर्णिया मोड़ तक एनएच 31 के मरम्मती कार्य की शुरूआत कर दी गई है। निर्माण कार्य के बाद एक साल तक संवेदक को रखरखाव की जिम्मेदारी दी गई है। बता दें कि एनएच 31 पूर्णिया से होकर सीधे किशनगंज के रास्ते बंगाल को जाता है। बेहद व्यस्त इस एनएच की खास्ताहाल को लेकर बार बार स्थानीय लोगों के द्वारा शिकायत की जा रही थी। कई बार तो हादसे में लोगों की जान तक चली गई। 
…22 किमी की दूरी तय करने में 536 हैं गड्‌ढ़े : पूर्णिया जीरोमाइल से दालकोला चेकपाेस्ट तक करीब 22 किलोमीटर की दूरी तय करने में कुल 536 गड्‌ढ़े हैं जो हर वक्त हादसे का कारण बनते हैं। गुलाबबाग जीरोमाइल से महज छह किलोमीटर की दूरी मसलन गुलाबबाग जीरोमाइल से बरसौनी टॉल प्लाजा तक 131 गड्‌ढ़े हैं। इसके बाद बरसौनी टॉल प्लाजा से बायसी तक कुल 330 गड्‌ढ़े हैं। बायसी से दालकोला चेकपोस्ट की दूरी तय करने में लोगों को 75 गड्‌ढ़ों के झटके सहने पड़ते हैं। लेकिन इन झटकों से लोगों को जल्द ही निजात मिलेगी। करीब 09 करोड़ की लागत से एनएच 31 की मरम्मती का कार्य शुरू कर दिया गया है। 
…गुलाबबाग जीरोमाइल से किशनगंज तक 26 पुलों की स्थिति जर्जर : गुलाबबाग जीरोमाइल से किशनगंज तक कुल 28 पुल हैं जिनमें 26 पुलों की स्थिति जर्जर है। रेलिंग जर्जर स्थिति में है और भीषण हादसे को न्योता दे रही है। बायसी पहुंचने से पहले दो पुलों की स्थिति तो बेहद जर्जर है। खासकर रात्रि प्रहर तो दो पहिया वाहन चालक सीधे नदी में गिर सकते हैं। बायसी व बरसौनी के बीच स्थित तीन पुलों की रेलिंग तो पूरी तरह से टूटी है। जिसकी मरम्मत भी इसी निर्माण कार्य के दौरान कराया जाएगा। 
…फोरलेन से हटाए जाएंगे अतिक्रमण : प्रशासनिक उपेक्षा के कारण एनएच 31 फोरलेन के बीचोंबीच कई जगहों पर लोग सब्जी की खेती तक कर रहे हैं। लेकिन अब इन अतिक्रमण को हटाया जाएगा। बता दें कि देश का शायद यह पहला एनएच है जहां लोग बीच सड़क पर अतिक्रमण कर जैविक खेती करते हैं। दरअसल पशुपालक अपने मवेशियों के गोबर को फोरलेन के बीच बने डिवाइडर (जहां पौधे लगाने की व्यवस्था की गई है) में डंप करते हैं। यह स्थिति बेलगच्छी (बायसी) से शुरू होकर सूरजापुर टॉल प्लाजा तक यानी करीब 50 किमी तक लोग धड़ल्ले से बीच सड़क पर जैविक खेती करते हैं। यही नहीं इस जगह को लोग मवेशी बांधने में, गाड़ी खड़ी करने में, रेहड़ी लगाने में, कचरा डंप करने में, जलावन रखने में, पुरानी गाड़ियों के कल पुर्जे रखने में भी इस्तेमाल में लाते हैं।
…टॉल प्लाजा से 06 लाख रूपए की हाेती है आमद :  गुलाबबाग जीरोमाइल से दालकोला तक कुल दो टॉल प्लाजा है। जिसमें बरसौनी टॉल प्लाजा व दालकोला चेकपोस्ट शामिल है। बरसौनी टॉल प्लाजा के एक कर्मी ने बताया कि प्रतिदिन एनएच 31 के टॉल प्लाजा से होकर करीब 2500 गाड़ियां गुजरती हैं। इन गाड़ियों से सरकार को प्रतिदिन करीब छह लाख रूपए की आमद होती है। अंदाजा लगाया जा सकता है कि इतनी बड़ी राशि बतौर आमद सरकार को प्राप्त हो रही है और गड्‌ढ़ों को भरने में कागजी पेंच की अड़चन थी। सूत्रों की माने तो चार बार टेंडर की प्रक्रिया हो चुकी थी लेकिन हरेक बार सिंगल टेंडर के कारण पेंच फंसा था। 
…संवेदक को एक साल तक करना है रखरखाव : गुलाबबाग जीरोमाइल से दालकोला पूर्णिया मोड़ तक एनएच 31 पर पड़े गड्‌ढ़ों को दुरूस्त करने, अतिक्रमण हटाने व टूटी रेलिंग के निर्माण का कार्य शुरू कर दिया गया है। संवेदक को एक साल तक के लिए रखरखाव की जिम्मेदारी दी गई है। निरीक्षण किया गया है और गुणवत्तापूर्ण कार्य के लिए निगरानी भी की जा रही है। : रंजीता कुमारी, प्रोजेक्ट डायरेक्टर, एनएचएआई, पूर्णिया रेंज।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *