सुखदेव की भाषा बोल रहे आरपीएन सिंह

झारखण्ड कांग्रेस अपने अतीत से कोई सबक नहीं ले रहा। यहाँ जैसे ही कोई नेता कार्यक्रमों के जरिये पार्टी को गति प्रदान करने की कोशिशें तेज़ करता है दूसरा गुट ऐसे कार्यक्रमों का विरोध शुरू कर देता है। वर्तमान में भी यही हो रहा है। सुबोधकांत कान्त सहाय ने जैसे भाजपा को कई मुद्दों पर घेरने की कोशिशें तेज़ की प्रदेश अध्यक्ष का गुट टंगड़ी मारने में जुट गया। इस बार प्रदेश अध्यक्ष ने झारखण्ड प्रभारी आरपीएन सिंह को आगे कर सुबोध का रास्ता घेरने की तैयारी कर दी है।

किसी वृद्ध कांग्रेसी ने इस बात पर सटीक टिप्पणी की कि कांग्रेस को कभी भी जनता ने नहीं हराया, कांग्रेसी ही पार्टी के दुश्मन हैं, किसी दूसरी पार्टी में इसके विरोधी नहीं है। ताज़ा घटनाक्रम यह है कि कांग्रेस प्रदेश प्रभारी आरपीएन सिंह ने प्रदेश अध्यक्ष सुखदेव भगत के दबाव में आकर बयान जारी कर दिया कि बिना अध्यक्ष की अनुमति के कोई भी नेता गैर कांग्रेसी कार्यक्रम में हिस्सा नहीं ले सकता है। प्रदेश प्रभारी का यह फरमान एक तरह से पार्टी के कद्दावर नेता सुबोधकांत सहाय के लिए ही था।

मामला कुछ यूं हुआ था कि आलाकमान के निर्देश पर इधर कुछ दिनों से सरकार की नीतियों के खिलाफ पार्टी के नेता और कार्यकर्ता अन्य समान विचारधारा वाली पार्टी के साथ समन्वय बनाकर कार्यक्रम में हिस्सा ले रहे थे। भाजपा के मिशन 2019 के मुकाबले झारखण्ड में भी महागठबंधन की कवायद की जा रही है। कोशिश की जा रही है कि भाजपा को पटकनी देने के लिए ठोस और मजबूत विपक्ष आकार ले। हालांकि बीच-बीच में कांग्रेस पर यह आरोप लगता रहा कि वो महागठबंधन से दूरी बनाये हुए है। जबकि झामुमो, झाविमो, राजद और अन्य दल कई मौकों पर एक मंच पर आते रहे हैं। बहरहाल, इस बीच सुबोधकांत सहाय ने पार्टी की ओर से आगे बढ़कर कुछ कार्यक्रमों में अग्रणी भूमिका निभाई। यह बात प्रदेश अध्यक्ष सहित कुछ नेताओं को नागवार गुजरी। इसके बाद तुरंत इस खबर को प्रदेश प्रभारी तक पहुंचाया गया।

पार्टी के अन्दर इस बात की भी चर्चा है कि ये सारी सरगर्मी पार्टी में नए व्यक्ति को कमान देने को लेकर ही हो रही है। वैसे देखा जाय तो बिहार में जदयू के महागठबंधन से अलग होने के बाद कांग्रेस ने यह तय किया कि मजबूत होती बीजेपी से टक्कर लेने के लिए एकजुट विपक्ष जरूरी है, इसके बिना बीजेपी के बढ़ते जनाधार को रोका नहीं जा सकता है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *