CNT पर औंधे मुंह गिरी झारखण्ड सरकार

अपने विधायकों ने ही कर दी रघुवर की बोलती बंद

3 जुलाई को CNT के सवाल पर रघुवर दास को मुंह की खानी पड़ी | CNT एक्ट में संशोधन के सवाल पर TAC की बैठक में भाजपा विधायकों ने मुख्यमंत्री की बोलती बंद कर दी | विधायक ताला मरांडी, शिवशंकर उरांव, गंगोत्री कुजूर आदि ने TAC की बैठक और सरकार की मंशा पर ही सवाल खड़े कर दिए | विधायकों की नाराजगी इतनी थी कि मुख्य सचिव, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव, मुख्यमंत्री के सचिव एवं अन्य सचिवों को बैठक से बाहर निकाल दिया गया | शिवशंकर उरांव तो मुख्यमंत्री के व्यवहार से इतने नाराज हुए कि रोकने पर भी बैठक में नहीं रुके और बाहर निकल गये | इसके बाद ही मुख्यमंत्री की घिग्घी बंध गई और वो अपने फैसले को पलटने पर मजबूर हुए |
अपने तानाशाही व्यवहार के लिए चर्चित रघुवर दास को भाजपा विधायकों से इस कदर नाराजगी की उम्मीद नहीं थी | दरअसल 8 नाराज बीजेपी विधायकों ने TAC मीटिंग से पहले समानांतर बैठक कर रघुवर के संशोधन के प्लान की धज्जी उड़ाने का फैसला कर लिया था | इन विधायकों को लगने लगा था कि अगर रघुवर दास की मनमानी का कड़ा विरोध नहीं किया गया तो उनकी भविष्य की राजनीति पर गलत असर पड़ेगा |
राजभवन ने जिन आपत्तियों के साथ CNT एक्ट में संशोधन के प्रस्ताव को खारिज किया, उसके बाद रघुवर दास TAC के बहाने फिर से बेक डोर से पुराने संशोधन पर ही मुहर लगाना चाहते थे | पर खुद पार्टी विधायकों ने रघुवर के सियासी प्लान का पोस्टमार्टम कर दिया |

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *