जनांदोलन के रूप में चलेगा स्वच्छता ही सेवा अभियानः CM रघुवर दास

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा स्वच्छ भारत अभियान को देशभर में सबसे ज्यादा सराहा गया है। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत के सपने को पूरा करने के लिए झारखंड सरकार पूरी शिद्दत से काम कर रही है। यह काम अब अंतिम चरण में है। 15 सितंबर से पूरे देश में स्वच्छता ही सेवा अभियान का शुरुआत हो रही है। इस दौरान न गंदगी करेंगे और न करने देंगे का संकल्प सभी लेंगे। दो अक्टूबर महात्मा गांधी की जंयती तक चलनेवाले इस अभियान को जन आंदोलन बनाना है। ये निर्देश आज उन्होंने झारखंड के सभी उपायुक्तों को वीडियो-कांफ्रेंसिंग के माध्यम से दिया। उन्होंने कहा कि मंत्री, जनप्रतिनिधिगण, अधिकारी, आम लोग, व्यापारिक संगठन, सामाजिक संगठन के प्रतिनिधियों को इसमें भागीदारी करनी है। इसके तहत हर दिन एक घंटा सभी को साफ-सफाई के लिए श्रमदान करना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी दौरान राज्य को पूरी तरह खुले में शौचमुक्त करने का लक्ष्य पूरा हो जायेगा। दो अक्टूबर को झारखंड खुले में शौचमुक्त हो जायेगा। जिन आठ जिलों में काम पीछे है, मुख्यमंत्री ने उन जिलों से उपायुक्तों से बातकर 30 सितंबर तक लक्ष्य पूरा करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि स्वच्छता सर्वेक्षण में भी झारखंड अव्वल आये, इसके लिए अलग से कार्य योजना बनायी जायेगी। राज्य में शत प्रतिशत शौचालय बन रहे हैं। उनका उपयोग हो, इसके लिए जन जागरण अभियान चलाया जायेगा।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इसी क्रम में 17 से 25 सितम्बर तक सेवा दिवस मनाया जायेगा। इसके तहत शहरी स्लम में हेल्थ चेकअप कैंप लगाये जायेंगे। सभी उपायुक्त जिले के सिविल सर्जन के साथ बैठक कर एक कार्यक्रम बना लें। जहां कैंप लगना है, उस क्षेत्र को चिह्नित कर लें। इसमंा भी जनप्रतिनिधियों के साथ सामाजिक-व्यापारिक संगठनों को जोड़ें। मेडिकल कैंप लगाकर गरीब, असहाय एवं सामान्य लोगों के स्वास्थ्य की जांच की जायेगी। साथ ही, सभी क्षेत्रों में LED वाहनों एवं स्थायी स्क्रीनों पर प्रधानमंत्री के जीवन पर बनी प्रेरक लघु फिल्म चलो जीते हैं भी प्रदर्शित की जाएगी।

इसके साथ ही 23 सिंतबर से आयुष्मान भारत की शुरुआत पूरे देश में झारखंड से हो रही है। पीएम नरेंद्र मोदी स्वयं झारखंड आ रहे हैं। आयुष्मान भारत के तहत झारखंड राज्य के चिन्हित 57 लाख परिवारों को 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा किया जायेगा। आयुष्मान भारत सफलतापूर्वक झारखंड में लागू हो सके इस हेतु सांसद, विधायक सहित क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि एवं सामाजिक संगठन से जुड़े लोग अपने-अपने क्षेत्रों में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे। राज्य के सरकारी अस्पताल इसके लिए तैयारी पूरी कर लें। राज्य के 57 लाख परिवारों को उनका यह हक मिले, इसे सुनिश्चित किया जा रहा है। जब तक एक-एक परिवार को इसका लाभ नहीं मिलेगा, तब तक यह अभियान निरंतर चलता रहेगा। इसके साथ ही मजदूरों व सफाई कर्मचारियों का एक सम्मेलन भी आयोजित किया जायेगा। इसमें अच्छा काम करनेवाले कर्मचारियों को पुरस्कृत किया जायेगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *