निकाय चुनावः 34 में से 21 निकायों में BJP सरकार

सूबे के 34 निकायों के चुनाव में बीजेपी ने विपक्ष के सारे दावों और उम्मीदों पर पानी फेर दिया है। बता दें कि राज्य में पहली बार दलीय आधार पर चुनाव हुए हैं। बीजेपी ने खूंटी, पाकुड़ समेत 34 में से 21 निकायों में जीत का परचम लहरा कर विरोधियों की बोलती बंद कर दी है।

 

राज्य के सभी 5 नगर निगमों (रांची, हजारीबाग, गिरिडीह, आदित्यपुर और मेदिनीनगर) में मेयर और डिप्टी मेयर की सीटों पर बीजेपी ने कब्जा कर लिया है। नगर परिषदों में भी बीजेपी ने विपक्ष के कयासों को नकार दिया है। बहरहाल, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा के किले में विपक्ष ने सेंध लगा दी है।

वहीं, राजधानी रांची में तमाम विवादों और दावों पर विराम लगाते हुए आखिरकार बीजेपी ने जिस जोड़ी पर विश्वास जताया था वह एक बार फिर जीत कर आ गई है। मेयर आशा लकड़ा ने झामुमो की वर्षा गाड़ी को हरा दिया है वहीं डिप्टी मेयर प्रत्याशी संजीव विजयवर्गीय ने कांग्रेस प्रत्याशी राजेश गुप्ता को पटकनी दी है

बता दें कि रांची में शुरुआती चरण में झामुमो की वर्षा गाड़ी से आशा लकड़ा पिछड़ गयी थीं, लेकिन बाद में आशा लकड़ा ने जो वापसी की तो दोनों के बीच जीत का अंतर लगातार बढ़ता चला गया। आशा लकड़ा ने 38 हजार से अधिक मतों से जीत दर्ज की। आशा लकड़ा को 1,49,623 वोट मिले, जबकि वर्षा गाड़ी को 1,10,007 वोट मिले।

वैसे देखा जाय तो निकाय चुनावों बीजेपी को जीत तो मिली है लेकिन कुछ जगहों पर मिली हार भी उसके लिए चिंता का सबब है। प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा के संसदीय क्षेत्र में पार्टी को करारा झटका लगा है। यहां झामुमो को जीत मिली है। वहीं, रामगढ़ में बीजेपी के दिग्गज नेताओं और केंद्रीय मंत्री का प्रचार भी पार्टी प्रत्याशियों को जिताने में नाकाम रहा। यहां उसकी सहयोगी पार्टी आजसू ने उसे जोरदार पटकनी दी है। यहां अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर आजसू ने कब्जा किया। संताल परगना में भी बीजेपी को करारा झटका लगा है। दुमका में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर निर्दलीय प्रत्याशियों ने जीत दर्ज की है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *