NRC के सहारे लोकसभा चुनाव में विपक्ष को घेरेगी BJP!

मिशन 2019 की तैयारी में जुटे बीजेपी को आगामी चुनाव के लिए एक बड़ा मुद्दा मिल गया है। लोकसभा में एनआरसी पर जिस तरह से अमित शाह ने अपनी पार्टी का स्टैंड रखा इसके साथ ही विपक्ष से उनका रुख स्पष्ट करने को कहा इसके बाद सियासी गलियारे में ये कहा जा रहा है कि बीजेपी इसी मुद्दे को लेकर आम चुनाव में जनता के बीच जाएगी।

बता दें कि 2016 के असम विधानसभा चुनाव के दौराना बीजेपी ने एनआरसी को एक बड़ा चुनावी मुद्दा बनाया था। इसका फायदा पार्टी को चुनावी नतीजों में भी देखने को मिला था। वहीं अमित शाह पहले ही नॉर्थ ईस्ट के दौरे में कह चुके हैं कि 2019 के लोकसभा चुनाव में नॉर्थ ईस्ट की 25 लोकसभा सीटों में से 21 जीतेंगे।

अमित शाह अच्छी तरह से जानते हैं कि एनआरसी के मुद्दे पर असम चुनाव में बीजेपी ने कैम्पेन चलाया था। असमी मुस्लिम और बांग्लादेशी मुस्लिम के इस कैम्पेन ने बीजेपी की जीत में बड़ी भूमिका निभायी थी। लोकसभा चुनाव में भी एनआरसी का मुद्दा न सिर्फ़ नॉर्थ ईस्ट बल्किु पूरे देश में एक बड़ा चुनावी मुद्दा बनेगा। बीजेपी के अंदरखाने कहा जा रहा है कि दिल्ली, एनसीआर, बिहार, मुंबई, झारखंड़ समेत देश के सभी मेट्रो शहरों में बंगलादेशी घुसपैठियों का मसला एक बड़ा मुद्दा है।

बांग्लादेशी और रोहिंग्या घुसपैठियों के कारण भारत में गरीब तबके के लोगों के रोजगार में कमी आई है। इस कारण गरीब तबके में बांग्लादेशी और रोहिंग्या घुसपैठियों के प्रति बड़ी नाराजगी है। इसका फ़ायदा बीजेपी को असम विधानसभा चुनाव की तरह लोकसभा और विधानसभा चुनावों में मिलेगा।

वहीं देखा जाय तो अमित शाह ने विपक्ष की एकजुटता के हिसाब से अपनी रणनीतियों पर अभी से काम करना शुरू कर दिया है। एक तरफ ट्रिपल तलाक पर मोदी सरकार ने अपने कदम आगे बढ़ाए हैं। इससे मुस्लिम समाज के अंदर ट्रिपल तलाक के मुद्दे पर बड़ी चर्चा शुरू हो गई है। क्योंटकि मामला मुस्लिम समाज के हाथ से धीरे धीरे निकलता जा रहा है।

वहीं सुप्रीम कोर्ट इस साल के अंत तक राम मंदिर हिंदुओं के पक्ष और जम्मू कश्मीर में आर्टिकल 35 A को समाप्त करने का फैसला देती है तो फिर 2019 के चुनाव में पीएम मोदी और अमित शाह एनआरसी, ट्रिपल तलाक, राममंदिर, आर्टिकल 35A जैसे मुद्दों के सामने विपक्षी एकजुटता धरी की धरी रह जाएगी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *