बिहार की छात्र राजनीति में आई रफ्तार

पटना विश्वविद्यालय के छात्र संगठन छात्रसंघ चुनाव के रंग में रंग चुके हैं। छात्र संगठनों ने छात्रों की समस्याओं को लेकर चुनाव में उतरने की बात की। इसमें कई संगठनों के 50 से अधिक छात्र जुटे। छात्र लोजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजीव सरदार ने कहा कि कैंपस में छात्रों के मंच पर सिर्फ छात्रों की समस्याओं की बात होगी। विश्वविद्यालय छात्र संघर्ष मोर्चा के अनिल यादव ने कहा की सेंट्रल लाइब्रेरी और छात्रावास की सुविधा बहाल करने की मांग को लेकर चुनाव में उतरेंगे। अधिकार छात्र परिषद् के महासचिव मो. आज़ाद चाँद ने कहा की कॉलेजों में और छात्रावास बने। छात्र सपा के प्रदेश अध्यक्ष धीरज यादव व आशुतोष ने कहा की डिस्पेंसरी में बेहतर सुविधा उपलब्ध करायी जाए। जदयू के मनीष यादव, जयंत कुमार, छात्र मधुकर रंजन, पियूष व भूपेश ने बात रखी।

वहीं पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के लिए बनायी गयी नियमावली छात्र संगठनों को मजबूती प्रदान करेगा। जीते हुए उम्मीदवारों को राशि खर्च करने से लेकर कई तरह के अधिकार मिलेंगे। बनाई गई नियमवाली में तीन सीटें बढ़ा दी गयी हैं। इससे पहले 23 सीटों पर चुनाव हुआ था। इसी नियमावली को राजभवन में मंजूरी लेने के लिए भेजा गया है।

अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव, सचिव, कोषाध्यक्ष, सोशल, स्पोर्ट्स व कल्चर सेक्रेटरी के चुनाव के साथ कॉलेजों, पीजी व संकायों में एग्जीक्यूटिव सदस्य का चुनाव होगा। नए नियमावली के अनुसार छात्र संघ के लिए देने होंगे 100 रुपए, पहले देना होता था 10 रुपए, इस बार 26 सीटों पर होगा चुनाव इसमें डिबेट सेक्रेटी, स्पोर्ट्स व कल्चर सेक्रेटी हैं शामिल, फंड उपयोग करने के लिए बनाये गए हैं छात्र चुनाव फंड व छात्र यूनियन फंड।

महत्वपूर्ण तथ्य –

  • चुनाव प्रक्रिया, नामांकन एवं चुनाव परिणाम अधिकतम 10 दिनों तक पूरे कर लिए जायेंगे, प्रत्याशी के लिए कक्षाओं में 75 प्रतिशत उपस्थिति अनिवार्य।
  • प्रत्याशी बनने की योग्यता स्नातक स्तर के लिए 22 वर्ष, पीजी के लिए 25 वर्ष व शोधार्थियों के लिए 28 वर्ष होने की उम्मीद है।
  • आपराधिक रिकॉर्ड, मुकदमा आदि वाले छात्र प्रत्याशी नहीं बनेंगे, प्रत्याशी विवि या कॉलेज का नियमित छात्र होगा, डीडीई के स्टूडेंट्स चुनाव नहीं लड़ेंगे।
  • चुनाव में अधिकतम एक प्रत्याशी पांच हज़ार रुपए खर्च कर सकेगा, व्यय या दुसरे नियमों के उल्लंघन पर उमीदवारी निरस्त हो सकेगी।
  • प्रिडेट पोस्टर, पंपलेट या प्रचार सामग्री के प्रयोग की अनुमति नहीं होने की उम्मीद है, प्रचार के लिए लाउडस्पीकर, वाहन एवं जानवरों के प्रयोग की अनुमति नहीं होगी।

यहाँ पर इतनी सीटें –
सेंट्रल पैनल पांच सीटें- अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव, सचिव और कोषाध्यक्ष
पटना कॉलेज 2, साइंस कॉलेज 2, बीएन कॉलेज 2, मगध महिला कॉलेज 2, पटना विमेंस कॉलेज 2, लॉ कॉलेज 1, वाणिज्य महाविधालय 1, कला एवं शिल्प महाविधालय 1, पटना ट्रेनिंग कॉलेज 1, विमेंस ट्रेनिंग कॉलेज 1, मानवीकी संकाय 1, साइंस संकाय 1, वाणिज्य, लॉ और एजुकेशन एक।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *