देवघर एम्स पर अश्विनी चौबे और निशिकांत दुबे भिड़े

भागलपुर का पुराना झंझट एक नए सियासी युद्ध में तब्दील हो गया है। वह भी दो भाजपा सांसदों के बीच। एक तरफ हैं बक्सर के सांसद और केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री अश्विनी कुमार चौबे तो दूसरी तरफ हैं देवघर के भाजपा सांसद निशिकांत दुबे। देवघर में एम्स किसकी कोशिश से मंजूर हुआ इसे लेकर जमकर सियासत हो रही है। अश्विनी कुमार चौबे के सोमवार और मंगलवार को देवघर दौरे के बाद इस विषय पर बयानबाजी तेज़ हो गयी। बात तू-तू – मैं – मैं तक पहुँच गयी।

दरअसल केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे ने भागलपुर और देवघर दौरे के क्रम में देवघर एम्स की केंद्र सरकार से मंजूरी कराने का श्रेय मधुपुर विधान सभा के विधायक और झारखंड के मंत्री राज पलिवार और अर्जुन मुंडा व रघुवर दास सरकार को दिया। अश्विनी चौबे ने प्रस्तावित एम्स स्थल का मुआयना भी किया। यह यहां के सांसद निशिकांत दुबे को नागवार गुजरा। और इन्होंने फटाफट सोशल मीडिया फेसबुक की अपनी वाल पर चार पोस्ट किए। और जमकर विरोध ही नहीं किया बल्कि खरी-खोटी भी मंत्री को सुनाई।

गंगा गोड्डा आने की तैयारी यह तो अश्विनी चौबे जी की कृपा से ही हो रहा है,लेकिन भूलवश शिलापट्ट पर उनका नाम छूट गया है?बिहार सरकार को भूल सुधारना चाहिए।

Nishikant Dubey 发布于 2017年9月18日

असल में गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे और बक्सर सांसद अश्विनी कुमार चौबे दोनों ही भागलपुर के हैं। शुरू से विद्यार्थी परिषद व राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के रास्ते ये दोनों ही भारतीय जनता पार्टी की राजनीति में आए हैं। भाजपा के विजय कुमार मित्रा की मौत के बाद पांच दफा चौबे ही भागलपुर विधान सभा सीट से चुने गए और 2014 से बक्सर से सांसद है। निशिकांत दुबे बीते दो दफा से झारखंड के गोड्डा लोकसभा सीट से सांसद हैं।

निशिकांत दुबे ने भागलपुर के भोलानाथ पुल की जर्जर स्थिति पर फेसबुक पोस्ट किया और मंत्री पर कमेन्ट किया. उन्होंने अपनी दूसरी पोस्ट में रहिमन का दोहा लिखा- “रहिमन वहां न जाइए , जहां कपट को हेत। हम तो ढारत ढेकुली , सींचत अपनो खेत।।” “रहिमन ओछे नरन सों , बैर भली न प्रीत। काटे चाटे श्वान के, दोऊ भांति विपरीत।।” उन्होंने आगे लिखा बाबा के दरबार में भी असत्य? मोदीजी ने बिहार झारखंड को चौबेजी के तौर पर बड़ी सौगात दी है, यह उनका सामर्थ्य तब तय करेगा यदि वे बिहार का प्रस्तावित दूसरा एम्स भागलपुर या अपने संसदीय क्षेत्र बक्सर में खुलवा दें। अन्यथा दूसरे के काम का फीता काटना आसान है।

देवघर में हवाई अड्डा भी मंजूर हुआ और बन रहा है। इस पर भी तंज कसते हुए निशिकांत दुबे ने अपनी तीसरी पोस्ट पर लिखा है कि यह एयरपोर्ट भी चौबे जी ने मंत्री राज पालिवार जी से मिलकर कराया, बधाई। और साथ ही ऊपर लिखे रहिमन के दोहे को फिर उद्धरित किया। मालूम रहे कि राज पालिवार से भी निशिकांत दुबे का छत्तीस का आंकड़ा है। इस जुबानी जंग का भाजपाई और विपक्षी दोनों ही आनंद ले रहे हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *