अश्विनी चौबे का बेटा दंगा का आरोपी, नीतीश पर BJP तल्ख़

भागलपुर के नाथनगर में हिंसा के मामले में आरोपी केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के पुत्र अर्जित शाश्वत का नाम आने के बाद से कई भाजपा नेता मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर सवाल खड़े कर रहे हैं. बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने सोमवार को बयान दिया. उन्होंने बिहार के सीएम नीतीश कुमार से पूछा कि यह क्या हो रहा है? पुलिस क्या कर रही है? दूसरी तरफ इस मामले में फरार चल रहे अर्जित चौबे रविवार को पटना में रामनवमी की शोभायात्रा में नजर आए. इस दौरान भाजपा के विधायक और कई नेता भी इनके साथ दिखे. इधर अर्जित ने मीडिया से कहा कि "मैं सरेंडर क्यों करूं? मैं भाग भी नहीं रहा. समाज में रह रहा हूं." कुल मिलाकर जहां बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पुलिस अधिकारियों के साथ खड़े दिख रहे हैं, वहीँ सहयोगी भाजपा इस मामले पर अभी खुलकर तो कुछ नहीं बोल रही लेकिन भाजपा कार्यकर्ता अपने को असहज महसूस कर रहे हैं. देर सबेर शायद भाजपा नेता सार्वजानिक रूप से भी बोलने लगें.

रामनवमी से एक दिन पहले 24 मार्च को भागलपुर की अदालत से अर्जित समेत 9 के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी हुआ था। इधर गिरफ़्तारी वारंट जारी होने पर अर्जित ने मीडिया से कहा, कोर्ट वारंट जारी करती है, लेकिन शरण भी देती है. एक बार आप कोर्ट जाते हैं तो आप सिर्फ वही करते हैं जो वे आपके लिए तय करें. मैं कोर्ट की शरण में हूं. भागता वो है, खोजना उनको पड़ता है, जो कहीं गायब हो गए हैं. मैं समाज के बीच हूं.' अर्जित ने उलटे नाथनगर में 17 मार्च को हुई हिंसा के लिए पुलिस अफसरों को दोषी ठहराया और नाथनगर थाना प्रभारी को निलंबित करने की मांग की.

केन्द्रीय मंत्री अश्विनी चौबे के बेटे ने आरजेडी और कांग्रेस के नेताओं के साथ विधायक अजीत शर्मा पर लोगों को भड़काने का आरोप लगाया और प्रशासन से कार्रवाई की मांग की. अर्जित ने कहा कि घटना में अफसर भी दोषी हैं. उनपर भी कार्रवाई हो. प्रशासन की ढिलाई के चलते उपद्रवियों का मनोबल बढ़ रहा है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *