NDA के संयोजक पद से भी आडवाणी को खिसकायेंगे शाह

लगता है भाजपा का वर्तमान नेतृत्व अपने मार्गदर्शक लाल कृष्ण आडवाणी को एनडीए संयोजन से भी मुक्त करना चाहता है, अगर ऐसा हुआ तो आडवाणी जी के पास कोई सक्रिय ज़िम्मेवारी नहीं बच जाएगी और उन्हें संसद में मिला अपना कमरा भी ख़ाली करना पड़ेगा. संकेत मिल रहे हैं कि भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह जल्द ही राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के संयोजक बन सकते हैं. 15 दिसंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान एनडीए संसदीय दल, जिसके नेता प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हैं, इसका फैसला ले सकता है. फैसला होने पर संसद में लालकृष्ण आडवाणी को अपना कमरा खाली करना पड़ सकता है.

संसद भवन में भू-तल पर भाजपा संसदीय दल के लिए कक्ष आबंटित है. इसमें मुख्य रूप से तीन कमरे हैं. एक बड़ा कक्ष है जिसमें पार्टी सांसद बैठते हैं. एक कमरा एनडीए अध्यक्ष/संयोजक के लिए आबंटित है. इस कक्ष में आडवाणी बैठते हैं. तीसरा कमरा काफी छोटा है जो राज्यसभा में भाजपा के उपनेता के लिए आबंटित है. चूंकि लालकृष्ण आडवाणी अभी एनडीए या भाजपा में किसी पद पर नहीं है ऐसे में एनडीए संयोजक के लिए आबंटित कमरा उन्हें खाली करना होगा.

गौरतलब है कि लालकृष्ण आडवाणी संसद सत्र के दौरान बतौर सांसद नियमित रूप से संसद में अपने कक्ष में सुबह 11 बजे से पहले आ जाते हैं. वे प्रश्नकाल में जरूर मौजूद रहते हैं. प्रश्नकाल के बाद वे दोबारा अपने कक्ष में उपस्थित होते हैं और भाजपा और अन्य दलों के कई नेता उनसे आकर मिलते हैं.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *