सियासी जमीन मजबूत करने स्वराज स्वाभिमान यात्रा पर निकलेंगे सुदेश

झारखंड में धीरे- धीरे सभी सियासी दलों ने अपनी गतिविधियां तेज कर दी है। आगामी लोकसभा और विधानसभा चुनाव को देखते हुए जनता के पास पहुंच कर अपनी बात रखने का सिलसिला शुरू हो गया है। इसी कड़ी में आजसू पार्टी भी सूबे में अपनी सियासी जमीन मजबूत करने के लिए आज से निकल पड़ी है। हर इलाके में जाकर आम लोगों से रू-ब-रू होकर उनके साथ सीधा संवाद किया जाएगा। आजसू जनता के सवालों को ध्यान में रखते हुए आगे की रणनीति तय करेगी।

2 अक्टूबर महात्मा गांधी के 150 वीं जयंती वर्ष से स्वराज स्वाभिमान यात्रा की शुरुआत करने का खास मकसद भी है। पार्टी प्रवक्ता देवशरण भगत की मानें तो इस यात्रा का उद्देश्य खासतौर पर यह जानना है कि राज्य की सरकार ने अबतक भगवान बिरसा मुंडा के अबुआ दिशोम अबुआ राज या राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के स्वराज के सपने को कितना पूरा किया है।

सूत्रों की मानें तो आजसू पार्टी के अंदरखाने इस बात को लेकर चर्चा है कि जिस प्रकार बीजेपी सरकार के साथ रहने से पार्टी की छवि को कहीं न कहीं नुकसान झेलना पड़ा है उसे पाटने की कोशिश की जाएगी। हालांकि, पार्टी सुप्रीमो सुदेश महतो ने कई बार इस बात का जिक्र भी सार्वजनिक मंचों पर किया है कि उनकी पार्टी को एनडीए सरकार के फैसलों से नुकसान उठाना पड़ा है।

बहरहाल इन सब के बावजूद पार्टी पूरे सूबे में घूमकर अपनी जड़ें और मजबूत करने पर फोकस कर रही है। इस स्वराज यात्रा के दौरान पार्टी उन इलाकों पर ज्यादा ताकत झोंकेगी जहां पार्टी को आगामी दिनों में सियासी तौर पर सफलता हाथ लग सकती है।

पार्टी के केन्द्रीय प्रवक्ता देव शरण भगत कहते हैं कि आजसू मंगलवार से अपने स्वराज यात्रा की शुरुआत करने जा रही है। मांडू से शुरू होनेवाली यह यात्रा टुंडी तक जाएगी। इसमें आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो ढाई लाख लोगों से सीधा संवाद स्थापित करेंगे। उन्होंने कहा कि ग्यारह दिनों तक चलने वाली इस यात्रा के पहले फेज में 150 किलोमीटर की दूरी तय की जाएगी। जबकि बाद अलग-अलग फेज में लगभग एक 1000 किमी क्षेत्र कवर करने की योजना है जिसके तहत 25 लाख लोगों से सीधा संवाद किया जाएगा। भगत ने कहा की इस दौरान हर उम्र, तबके और समुदाय के लोगों से संपर्क करने की योजना है। साथ ही इस दौरान पार्टी सुप्रीमो सुदेश महतो रात्रि विश्राम किसी स्वतंत्रता सेनानी या झारखंड आन्दोलन में सक्रिय रहे लोगों के घर में ही करेंगे।

बहरहाल, झामुमो के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने आजसू के इस यात्रा को पूरी तरह से बीजेपी प्रायोजित बताया है। सुप्रियो कहते हैं कि इससे पहले भी आजसू पार्टी ने अपनी राजनीतिक जमीन बचाने के लिए काफी कुछ किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *