रसोईया के लिए पैरवी कर रहे मंत्री, आ सकते हैं ACB के लपेटे में

झारखंड सरकार के मंत्रियों पर एसीबी की गाज गिर सकती है। सरकार के स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी और कृषि मंत्री रणधीर सिंह पर आरोप है कि उन्होंने जैप-9 साहेबगंज में चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों (धोबी, नाई, जलवाहक, रसोईया और झाड़ूकश) की बहाली के लिए पैरवी की थी।

जानकारी के अनुसार इसी मामले में निलंबित समादेष्टा हरिनारायण महली ने एंटी करप्शन ब्यूरो, मंत्रिमंडल सचिवालय और निगरानी विभाग को शिकायत पत्र भेजा है जिसमें उन्होंने इन मंत्रियों पर गंभीर आरोप लगाए हैं। महली ने कहा है कि स्वास्थ्य मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी और कृषि मंत्री रणधीर सिंह ने अभ्यर्थियों के चयन के लिए पैरवी की थी। उन्होंने कहा कि उसके बावजूद चयन पर्षद के नियमानुसार और विधि सम्मत काम किया गया। लेकिन जब इन मंत्रियों की पैरवी नहीं सुनी गई तो साजिश के तहत दबाव बनाकर मुझे निलंबित कर दिया गया।

इस नए मामले के सामने आते ही एसीबी के अधिकारियों पर नैतिक दबाव बढ़ता जा रहा है कि वे इस नियुक्ति से जुड़े तथ्यों की जांच करते हुए संबंधित लोगों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करें। कहा जा रहा है कि जिस प्रकार समादेष्टा ने दोनों मंत्रियों के खिलाफ आरोप लगाए हैं और उन पर कार्रवाई की गई है इसे देखते हुए एसीबी की जद में दोनों मंत्री भी आ सकते हैं। बता दें कि निलंबित समादेष्टा हरिनारायण महली ने एसीबी को इससे संबंधित कई साक्ष्य भी सौंपे हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *