हजारीबाग सीट से बाप और बेटा हो सकते हैं आमने-सामने !

राजनीति भी अजीब बीमारी है.इसमें रिश्ते नाते भी दूर हो जाते हैं.भाई-भाई का और बाप बेटे का दुश्मन बन जाता है. ऐसा ही मामला हजारीबाग में होने वाला है. दरअसल हजारीबाग़ सीट से कांग्रेस को कोई प्रत्याशी नहीं मिल रहा है. भाजपा ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री यशवंत सिन्हा के बेटे जयंत सिन्हा को मैदान में उतारा है. उनको टक्कर देने के लिए कांग्रेस भी मजबूत प्रत्याशी तलाश रही है.पूर्व मंत्री योगेन्द्र साव पर अदालती करवाई चल रही है और 15 तक उन्हें कोर्ट ने सरेंडर करने का आदेश दिया है. इस कारण पार्टी उन्हें टिकट नहीं दे सकती है. इस सीट के लिए गोपाल साहू, शिवलाल महतो, जयशंकर पाठक का नाम भी आया है। इसके बाद प्रदीप प्रसाद और पूर्व मंत्री योगेन्द्र साव की बेटी अंबा प्रसाद का नाम भी जुड़ा है। फिर पूर्व मंत्री राजेंद्र प्रसाद सिंह के नाम की चर्चा शुरू हुई। लेकिन एक दो दिनों में पार्टी में यह चर्चा जोरो पर है कि पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा को हजारीबाग से कांग्रेस मैदान में उतार सकती है. पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अलोक पाण्डेय ने कहा कि प्रदेश कांग्रेस ने यशवंत सिन्हा को हजारीबाग सीट के लिए ऑफ़र किया है. यदि सबकुछ ठीक रहा तो हजारीबाग से यशवंत सिन्हा कांग्रेस की टिकट से अपने बेटे के खिलाफ मैदान में होंगे. अब देखना होगा की प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष इसपर क्या निर्णय लेते हैं.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *