सीएम रघुवर दास अमर्यादित भाषा का कर रहे प्रयोग : कांग्रेस

झारखण्ड प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोरनाथ शाहदेव एवं सह-कार्यालय प्रभारी डाॅ0 विनोद सिंह ने संयुक्त रूप से कहा है कि मुख्यमंत्री रघुवर दास अपने संबोधन में जिस प्रकार सड़क छाप शब्दों का प्रयोग कर रहे हैं, वह उन्हें शोभा नहीं देता है। ज्ञातव्य है कि फुसरो की जन आर्शीवाद सभा में उन्होंने चोर-चोट्टा एवं कांग्रेस के 67 सालों पर अमर्यादित टिप्पणी की है। 

कांग्रेस प्रवक्ताओं ने कहा कि राज्य के मुख्यमंत्री ने सारी मर्यादाओं को ताक पर रख दिया है। विपक्षी दलों की आलोचना स्वस्थ लोकतंत्र की परम्परा और जरूरत भी है, लेकिन मुख्यमंत्री जिस तरह के शब्दों का प्रयोग कर रहे है, प्रदेश कांग्रेस कमिटी कड़े शब्दों में भत्र्सना करती है। जबकि अभी चुनाव की तिथियों की घोषणा भी नहीं हुई है, उसके पहले ही मुख्यमंत्री का व्यवहार पूरी तरह से निराशा एवं हताशा का परिचायक है। 

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता आलोक दूबे, किशोर शाहदेव एवं डाॅ0 विनोद सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री को जनआर्शीवाद यात्रा में अपने पांच वर्षों की सफलता को दर्शाना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं करके वे सिर्फ 370-35ए, सत्तर साल, पाकिस्तान, नेहरू-गांधी परिवार पर हीं केन्द्रित हैं। सच तो यह है कि मुख्यमंत्री ने पिछले पांच वर्षों में कुछ नहीं किया है। 

नीति आयोग की रिपोर्ट में निवेश एवं विकास के मामले में झारखण्ड सबसे निचले स्थान यानि 17वें स्थान पर है, एन.आर.सी.बी. (छत्ब्ठ) की रिपोर्ट में झारखण्ड अपराध के मामले में पहले स्थान पर, दुष्कर्म के मामले में दूसरे स्थान पर, आदिवासियों पर जुल्म को लेकर झारखण्ड तीसरे पायदान पर है, जो झारखण्ड सरकार को आईना दिखाने के लिए काफी है। 

प्रदेश कांग्रेस ने कहा है कि मुख्यमंत्री को जनता के बीच यह भी बताना चाहिए कि भ्रष्टाचार के मामले में जीरो टोलरेन्स की बात करने वाली सरकार के 1200 करोड़ रूपये का बांध-चूहा खा जाते हैं, 1 अक्टूबर 2019 को सीबीआई ने शिक्षक नियुक्ति घोटाले में सत्तर अधिकारियों के उपर प्राथमिकी दर्ज की जाती है, जिसमें भाजपा एबीभीपी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष दिलिप प्रसाद शामिल हैं, राज्य सरकार के दो मंत्री रामचन्द्र चन्द्रवंशी तथा रणधीर सिंह को घूस मांगते हुए सभीलोगों ने देखा है, कंबल घोटाला के अधिकारियों को मुख्यमंत्री ने अंडर ग्राउन्ड कर दिया है, जैसे भ्रष्टाचार की लंबी फेहरिस्त है, जिसपर आगामी विधानसभा चुनाव में भाजपा सरकार को जवाब देना होगा।

प्रदेश कांग्रेस कमिटी ने कांग्रेस के लिए अपशब्द एवं अमर्यादित शब्दों के लिए सार्वजनिक रूप से माफी मांगने को कहा है। 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *