संविधान में उल्लेखित धर्मनिरपेक्ष, समाजवाद और लोकतांत्रिक व्यवस्था को सुदृढ़ करने में सभी का सहयोग जरूरी : डॉ.उरांव

झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सह राज्य के वित्त तथा खाद्य आपूर्ति मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव ने संविधान दिवस पर राज्यवासियों को बधाई देते हुए कहा कि संविधान भारत सरकार के लिखित सिद्धांतों और उदाहरणों का एक समूह है, जो मूलभूत राजनीतिक सिद्धांतो, प्रक्रियाओं, अधिकारों, निर्देश सिद्धांतों, प्रतिबंधों और सरकार तथा देश के नागरिकों के कर्तव्यों को पूरा करता है। यह भारत को एक संप्रभु, धर्मनिरपेक्ष, समाजवादी और लोकतांत्रिक गणराज्य घोषित करता है तथा अपने नागरिकों की समानता, स्वतंत्रता और न्याय का आश्वासन देना हैं।
प्रदेश अध्यक्ष डॉ. उरांव ने कहा कि संविधान में उल्लेखित धर्मनिरपेक्ष, समाजवाद और लोकतांत्रिक व्यवस्था को सुदृढ़ करने के लिए सभी का सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से एक साजिश के तहत समय-समय पर देश की धर्मनिरपेक्ष छवि पर कुठाराघात करने की कोशिश की जाती है, उसे पार्टी कार्यकर्त्ता कभी सफल नहीं होंगे।
डा रामेश्वर उराँव ने कहा कि भारतीय संविधान विश्व के सबसे बड़े लोकतांत्रिक राष्ट्र भारत के लोकतंत्र संचालन का लिखित कानून ही नहीं है, बल्कि भारतीय संस्कृति का गौरव ग्रन्थ है।उन्होंने कहा कि हमारा संविधान मानवीय अधिकारों और कर्तव्यों के संतुलन का वैश्विक दस्तावेज है।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव,डॉक्टर राजेश गुप्ता छोटू, प्रोफेशनल कांग्रेस अध्यक्ष आदित्य विक्रम जायसवाल एवं निरंजन पासवान ने भी राज्य वासियों को 71 वें संविधान दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं दी है।प्रवक्ताओं ने सभी से अपील की है कि देश के नियम-कानूनों का पालन करते हुए सर्वधर्म सद्भाव के साथ महिलाओं की सुरक्षा और उनके सम्मान को बरकरार रख भारतीय संस्कृति की गौरवशाली परंपराओं को समृद्ध करने में अपना योगदान दें।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *