वाराणसी से मोदी के खिलाफ प्रियंका नहीं उतरेगी मैदान में,अजय राय होंगे प्रत्याशी

वाराणसी से पीएम नरेंद्र मोदी के खिलाफ कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार का एलान कर दिया है. इसके साथ ही ये साफ हो गया है कि पार्टी की महासचिव और राहुल गांधी की बहन वाराणसी से कांग्रेस की उम्मीदवार नहीं होंगी. कांग्रेस ने अजय राय को मोदी के खिलाफ अपना उम्मीदवार घोषित किया.

बता दें कि जिस वाराणसी सीट से साल 2014 में मोदी ने जीत हासिल की थी. उसी सीट पर मोदी के सामने कांग्रेस उम्मीदवार की जमानत जब्त हो गई थी. 2014 में पीएम मोदी को कुल 5 लाख 81 हजार वोट मिले थे. जबकि कांग्रेस उम्मीदवार अजय राय को करीब 75 हजार वोट ही मिल पाए थे. अजय राय 2014 के चुनाव में तीसरे नंबर पर रहे थे. जबकि दूसरे नंबर पर दिल्ली के वर्तमान मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल रहे थे.

वाराणसी का महत्व क्या है?

यूं तो काशी की पहचान किसी परिचयन का मोहताज नहीं है, लेकिन साल 2014 के लोकसभा चुनाव ने इस सीट को राष्ट्रीय ही नहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सुर्खियां दीं. जैसे ही काशी विश्वनाथ की धरती से गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री और बीजेपी की ओर से पीएम के उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के चुनाव लड़ने का एलान हुआ, वाराणसी की सीट का हॉट सीट हो जाना स्वभाविक था, लेकिन इस बार ये सीट इसलिए चर्चा में थी कि कांग्रेस ने यहां अपने उम्मीदवार का एलान न करके सस्पेंस बना रखा था.

दरअसल, वाराणसी को लेकर कांग्रेस के नेताओं से जब-जब सवाल किए गए तो वो प्रियंका गांधी की उम्मीदवारी को लेकर अटकलों को हवा देते नजर आए. ऐसा करने वालों में कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांंधी और खुद प्रियंका गांधी भी रहीं, आखिर-आखिर तक इसे राज रखा गया कि इस सीट से कांग्रेस का उम्मीदवार कौन होगा. आज जब पीएम मोदी अपने नामांकन से एक दिन पहले बनारस में रोड शो करने वाले हैं, तो कांग्रेस ने अपने उम्मीदवार की घोषणा की है. कांग्रेस ने अपने पुराने उम्मीदवार पर ही विश्वास किया है और उन्हें दोबारा टिकट दिया है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *