रघुकुल रीति का क्या हुआ रघुवर जी !

वचन तो टूटा अब आगे……..

झारखण्ड के वचनप्रिय मुख्यमंत्री रघुवर दास जी ! मोमेंटम झारखण्ड के वक़्त अपने बड़ी बड़ी होर्डिंग लगवाई थी | उनपर लिखा था रघुकुल रीत सदा चली आयी, प्राण जाये पर वचन न जाई (हालाँकि ये पंक्तियाँ भी गलत तरीके से लिखी गई थी) अब जब CNT पर आपका वचन झूठा साबित हो चुका है| तो क्या आप इस्तीफा देंगे (राजनीतिज्ञों के प्राण तो सत्ता में ही हैं)| अगर आप ऐसा नहीं कर सकते तो क्या आप झारखण्ड के सवा तीन करोड लोगों से सार्वजनिक तौर पर माफ़ी मांगेंगे! आपने इन तीन वर्षों में झारखण्ड की मासूम जनता को लगातार भ्रमित किया | बाहर से उद्योगपतियों को झारखण्ड बुलाया, उन्हें भी सब्जबाग दिखाया | cnt पर चुपके से अध्यादेश लाकर अपने संदेह का जो बीज आदिवासी समुदाय के मन में बोया, उससे पूरा प्रदेश अशांत हुआ | आदिवासी-गैर आदिवासी में पूरा राज्य बंट गया | आपके संशोधन प्रस्ताव को पहले राष्ट्रपति ने लौटाया, आपने दोबारा बहुमत के अहंकार से इसे विधानसभा में पारित कराया फिर राज्यपाल ने इसे लौटाया | सत्ता के अहंकार में आपने किसी की नहीं सुनी | भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष ताला मरांडी ने जब आपको आइना दिखाया तो आपने उन्हें अपमानित कर पद से हटाया | आप लिट्टीपाडा का उप चुनाव इसी मुद्दे पर हारे| इस बीच नये प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ ने भी जब cnt पर बात करनी शुरू की तो आपने उनके खिलाफ भी साजिश शुरू कर दी |
इतना ही नहीं जब राज्यपाल ने आपके आदिवासी विरोधी फैसले में आपका साथ नहीं दिया तो आपके सलाहकारों ने राजभवन के बारे में दुष्प्रचार प्रारंभ कर दिया | मीडिया को राजभवन के सही फैसलों के बारे में भी ट्विस्ट कर ख़बरें दी जाने लगी | पर नतीजा क्या हुआ! आपके अहंकार ने सबकुछ डुबो दिया | आपके खिलाफ दो PIL हो चुके हैं | ये भी आपके भ्रष्टाचार को लेकर हैं | GIS के दौरान आपके परिजन और चट्टे-बट्टे तक अमेरिका गए | वो सरकारी खर्च पर कौन सा इन्वेस्टमेंट लाने गए थे! अदालत के सामने सब कुछ है | दूसरा किस्सा 1 लाख की कम्पनी को 14 करोड़ का काम देने को लेकर है | आप पारदर्शिता और ईमानदारी की खोखली बात करते हैं, लेकिन आपने सारे मापदंड को ध्वस्त कर एक अयोग्य कम्पनी को काम दिया | आपकी सरकार के वरिष्ठ मंत्री सरयू राय ने आपको पत्र लिखकर इसमें भ्रष्टाचार की बात कही, लेकिन आपने उसे अनसुना कर दिया | ऐसा ही मधु कोड़ा ने भी किया था, उनका हश्र सबके सामने है | आप अब भी चेतिए | अपने को झारखण्ड का सबसे बड़ा खलनायक बनने से रोकिए |

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *