मेरे पिता के साथ युद्धबंदियों से भी ज्यादा खराब किया जा रहा व्यवहार : तेजस्वी

चारा घोटाला में सजा भुगत रहे राजद सुप्रीमो लालू यादव से उनके पुत्र तेजस्वी यादव को जेल में नहीं मिलने दने पर उन्होंने अपना दर्द  ट्विटर पर साझा किया है. उन्होंने केंद्र और राज्य सरकार पर करारा हमला बोला है.  उन्होंने कहा कि मेरे पिता के साथ युद्धबंदियों से भी ज्यादा खराब व्यवहार किया जा रहा है.

इस वीडियो के साथ उन्होंने लिखा है, ”पिछले दो महीनों से हमारे परिवार में से किसी को भी मेरे बीमार पिता से मिलने नहीं दिया जा रहा है. बीजेपी की सरकार सरकार गुंडागर्दी पर उतर चुकी है. ईर्ष्या और द्वेष के चलते सारे कानून-कायदों की धज्जियाँ उड़ाई जा रही है. लालू जी के साथ युद्धबंदियों से भी बदतर अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है.”

 विगत दो महीनों से हमारे परिवार में से किसी को भी मेरे बीमार पिता से मिलने नहीं दिया जा रहा है. भाजपाई सरकार गुंडागर्दी पर उतर चुकी है. ईर्ष्या और द्वेष के चलते सारे कानून-कायदों की धज्जियाँ उड़ाई जा रही है. लालू जी के साथ युद्धबंदियों से भी बदतर अमानवीय व्यवहार किया जा रहा है.

इससे पहले लालू यादव की जान को लेकर राबड़ी देवी कह चुकी हैं कि बीजेपी सरकार जहर देकर उन्हें अस्पताल में मारना चाहती है. राबड़ी देवी ने कहा था, ”बीजेपी सरकार ज़हर देकर अस्पताल में लालू जी को मारना चाहती है. परिवार के किसी भी सदस्य को महीनों से मिलने नहीं दिया जा रहा है. भारत सरकार पगला गया है. नियमों को दरकिनार कर उपचाराधीन लालू जी के साथ तानाशाही सलूक किया जा रहा है. बिहार की जनता सड़क पर उतर गयी तो अंजाम बहुत बुरा होगा.”

राबड़ी देवी के इस बयाने के बाद बिहार के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने उनपर पलटवार किया था. उन्होंने कहा था, ”मैं राबड़ी देवी की इस आशंका से सहमत हूं कि लालू प्रसाद यादव के भोजन में जहर हो सकता है लेकिन सरकार द्वारा नहीं, बल्कि परिवार के किसी भी सदस्य द्वारा क्योंकि परिवार में झगड़े है. सरकार बाहर से आने वाले भोजन को रोकें और उचित जांच के साथ ही जेल का भोजन दें.”

सुशील मोदी के इस बयान के बाद फिर से तेजस्वी यादव ने पलटवार किया था. इस दौरान उन्होंने बीजेपी के साथ साथ आरएसएस पर भी हमला बोला था. उन्होंने कहा था कि ‘माता-पिता को सांसारिक लाभ के लिए विष देना आपकी संघी संस्कृति है. आप लालू-फ़ोबिक हैं और इस फोबिया ने आपको इतना उलझा दिया है कि आप अपना सारा मानसिक संतुलन और नैतिकता का भाव खो चुके हैं! बिहार के राजनीतिक परिदृश्य में आपकी उपस्थिति बिहार के लोगों के लिए अभिशाप है.”

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *