बिरसा कृषि विश्वविद्यालय के छात्र प्रतिनिधिमंडल ने कांग्रेस प्रवक्ता अलोक दुबे को सौपा ज्ञापन

रांची। विभिन्न विभागों में रिक्त पदों पर नौकरी की मांग को लेकर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डॉ रामेश्वर राव द्वारा गठित कमेटी के प्रतिनिधि मंडल से बिरसा कृषि विश्वविद्यालय छात्रों का एक विशेष प्रतिनिधिमंडल शुक्रवार को कांग्रेस भवन में सर्वश्री आलोक कुमार दूबे, प्रोफेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष सह उच्च स्तरीय कमेटी के सदस्य आदित्य विक्रम जायसवाल, प्रदेश प्रवक्ता लाल किशोर नाथ शाहदेव एवं डॉक्टर राजेश गुप्ता छोटू से मुलाकात की तथा कृषि विभाग में 4000 से अधिक रिक्त पदों पर अविलंब बहाल करने की मांगों से संबंधित ज्ञापन सौंपा।

प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन के माध्यम से प्रदेश कांग्रेस नेताओं को अवगत कराया है कि झारखंड राज्य की स्थापना के बाद और उसके पूर्व से ही लगभग 30 वर्षों से कृषि विभाग में किसी प्रकार की कोई बहाली नहीं हुई है ,कृषि विभाग में विभिन्न रिक्त पदों जैसे प्रखंड कृषि पदाधिकारी, सहायक अनुसंधान पदाधिकारीपौधा संरक्षण निरीक्षक एवं समक्ष पदों की जल्द बहाल करने की संबंधित विभाग को दिशा निर्देश दी जाए, राज्य के एकमात्र प्रतिष्ठित कृषि संस्थान बिरसा कृषि विश्वविद्यालय में छात्रों की प्राथमिकता मिलनी चाहिए,जेएसएससी-सीजीएल 2019 के तहत नॉनटेक्निकल पदों की आवेदन प्रक्रिया शुरू हो चुकी है, लेकिन अभी तक टेक्निकल पदों की बहाली की प्रक्रिया शुरू नहीं हो पाई है।

कमेटी के सदस्य आलोक कुमार दूबे,लाल किशोर नाथ शाहदेव, डा राजेश गुप्ता,आदित्य विक्रम जायसवाल ने कहा कि आज कृषि दक्ष छात्रों को बहाल करने की जरूरत है ताकि किसानों को कृषि के क्षेत्र में लाभ मिल सके। पूर्व की भाजपा सरकार ने किसानों को तकनीक से लैस करने के लिए विदेशों तक भेजा था लेकिन इसके कुछ भी फलाफल नहीं निकल। कृषि अधिकारियों की बहाली को लेकर रघुवर दास की सरकार ने आनन-फानन में 2015 में अधिसूचना जारी की गई थी लेकिन वह भी रद्द कर दिया गया, उनकी इस नीति से आज राज्य के होनहार छात्र बेरोजगार बैठे हैं, ज्ञातव्य है कि प्रतिवर्ष 400 से 500 छात्र बिरसा एग्रीकल्चर विश्वविद्यालय से पूरी तरह से प्रशिक्षित विद्यार्थी निकलते हैं,जहाँ प्रति विद्यार्थी सरकार के लगभग 25 लाख रुपए खर्च होते हैं।पिछले 2000 से कोई बहाली नहीं होना राज्य के होनहारों के साथ एक तरफ विश्वासघात है तो वहीं दूसरी तरफ कृषि के क्षेत्र में बढ़ते हुए विकास को रोकने का कुत्सित प्रयास है कांग्रेस नेताओं ने बिरसा एग्रीकल्चर विश्वविद्यालय प्रतिनिधिमंडल को आश्वस्त किया है कि उनकी बहाली से संबंधित सभी महत्वपूर्ण दस्तावेज के साथ समिति के संयोजक माननीय कृषि मंत्री बादल पत्रलेख को अवगत कराया जाएगा एवं उनके माध्यम से मुख्यमंत्री को वस्तु स्थिति से अवगत कराते हुए बिरसा एग्रीकल्चर विश्वविद्यालय में रिक्त पदों की बहाली की प्रक्रिया शुरू कराने का प्रयास किया जाएगा।

इसके पूर्व प्रदेश प्रोफेशनल कांग्रेस के अध्यक्ष आदित्य विक्रम जायसवाल ने कृषि स्नातक एवं स्नातकोत्तर छात्रों की रोजगार, किसानों के पैदावार बढ़ाने से संबंधित मांगों को लेकर कई बार माननीय कृषि मंत्री को अवगत कराया जिस पर मंत्री जी ने विभागीय कार्रवाई करने के आदेश दिए थें। उन्होंने कहा कि मााननीय मुख्यमंत्री और हमारे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सह मंत्री डाॅ रामेश्वर उरांव जी राज्य में कृषि के विकास एवं किसानों की उन्नति के प्रति काफी गंभीर है। इसके लिए प्रदेश कांग्रेस में उच्च स्तरीय कमेटी का गठन किया है। कृषि छात्रों की मांगों को लेकर जल्द माननीय कृषि मंत्री जी से मिलकर अवगत कराया जाएगा। ताकि किसानों को सरकार की कृषि योजनाओं को राज्य, जिला एवं प्रखंड स्तर तक तकनीकि अनुभव छात्रों का लाभ मिल सके।

प्रतिनिधि मंडल में छात्र संघ के सुशील कुमार सिंह, गुलशन कुमार, ज्ञानचंद बिरूआ, रिषिकेश कुमार, कुंदन कुमार, गौरव तिवारी आदि शामिल थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *