बिखरे कुनबे को समेटने में जुटे मुलायम सिंह!

सपा मुखिया मुलायम सिंह यादव परिवार में जारी कलह को खत्म करने में जुट गए हैं। मुलायम ने इसके लिए चार अलग- अलग बैठकें शिवपाल यादव और बेटे अखिलेश यादव के साथ की हैं। बीते एक साल से परिवार में जारी कलह उस वक्त थमती नजर आई, जब शिवपाल ने मुलायम के नेतृत्व में राजनीतिक फ्रंट खड़ा करने की योजना को टाल दिया। शिवपाल इस फ्रंट को जून के पहले हफ्ते में लॉन्च करने वाले थे। सूत्रों के मुताबिक, शिवपाल ने ऐसा मुलायम सिंह के जोर देने पर किया।

सूत्रों के मुताबिक, मुलायम सिंह यादव ने यह पहल ऐसे वक्त में की है, जब शिवपाल और अखिलेश, दोनों ने ही रिश्तों में नरमी नहीं आने के संकेत दिए। एक सूत्र ने बताया, 'हाल ही में यादव परिवार में दो कार्यक्रम हुए। पहला अखिलेश के बच्चों का बर्थडे जबकि दूसरा शिवपाल के बेटे का जन्मदिन था। इस तरह के मौकों को परिवार के सदस्य मिलकर सेलिब्रेट करते थे, लेकिन इस बार अलग-अलग कार्यक्रम आयोजित किए गए।'

गृह कलह को लेकर मुलायम कई बार यह संकेत दे चुके हैं कि अखिलेश और शिवपाल दोनों ही उनके दिल के नजदीक हैं। परिवार के एक नजदीकी सूत्र ने बताया, 'बंद दरवाजों के पीछे सुलह की कोशिशें जारी है। हम एक सकारात्मक नतीजे को लेकर आश्वस्त हैं।' यह भी कहा जा रहा है कि आने वाले वक्त में परिवार को बिखरने से रोकने के लिए मुलायम, शिवपाल और अखिलेश साथ आ सकते हैं। जहां तक मुलायम की बात है, वह दोनों ही धड़ों की नाराजगी कम करने में कामयाब रहे हैं। शायद यही वजह है कि बार-बार धमकी देने के बावजूद शिवपाल ने पार्टी और परिवार से अलग होने की 'लक्ष्मण रेखा' पार नहीं की।
वहीं परिवार के एक नजदीकी ने बताया कि मुलायम अपनी महत्वाकांक्षाओं का बलिदान देकर परिवार को एकजुट करने के लिए तैयार हैं। इसका नतीजा यह निकल सकता है कि अखिलेश जहां पार्टी में निर्णायक भूमिका में बने रहेंगे, वहीं शिवपाल को भी कोई अहम पद मिलेगा। बता दें कि कुछ दिन पहले तक मुलायम समाजवादी पार्टी का अध्यक्ष दोबारा बनने के लिए बेकरार थे। सूत्र ने बताया, 'मुलायम ने यह डिमांड अब छोड़ दी है और अखिलेश को अब शिवपाल की भूमिका तय करनी है ताकि परिवार में जारी कलह को खत्म किया जा सके।'

राजनीतिक जानकार यह मानते हैं कि परिवार के इसी कलह की कीमत समाजवादी पार्टी को विधानसभा चुनाव में भी चुकानी पड़ी और पार्टी बुरी तरह हारकर सत्ता से बाहर हो गई।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *