पुलिस और नक्सली मुठभेड़ में घायल जवानों को देखने मेडिका पहुंचे वित्त मंत्री डॉ. रामेश्वर उरांव

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष सह खाद्य आपूर्ति व वित्त मंत्री डॉ रामेश्वर उरांव ने पुलिस और नक्सली मुठभेड़ में घायल जवानों को देखने मेडिका पहुंचे और सरकार की ओर से एवं राज्य की जनता की ओर से उनकी बहादुरी की प्रशंसा की और हिम्मत के लिए शाबाशी भी दिया। घायलों से मिलने वालों में प्रदेश अध्यक्ष के साथ प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दूबे,लाल किशोर नाथ शाहदेव, डा राजेश गुप्ता छोटू ,पुलिस प्रशासन की ओर से वरीय आरक्षी अधीक्षक सुरेन्द्र नाथ झा,नगर आरक्षी अधीक्षक सौरव कुमार भी शामिल थे।
प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष डा रामेश्वर उराँव बेरमो चुनाव दौरे को बीच में ही छोड़कर रांची पहुंचे और हेमंत सोरेन की अनुपस्थिति में सरकार की ओर से दोनों घायलों से मुलाकात किया, दोनों के स्वास्थ्य हालात की जानकारी ली। हवलदार उपेंद्र सिंह एवं आरक्षी अंजनी कुमार पांडे से मुलाकात की एवं बातचीत किया।जवानों ने मंत्री को बताया कि मुठभेड़ में नक्सलियों का भी भारी नुकसान हुआ है।
जवानों से मुलाकात के उपरांत पत्रकारों से बातचीत करते हुए डा रामेश्वर उराँव ने कहा कि दोनों जवानों की स्थिति अच्छी है, जवानों ने बहादुरी से मुकाबला किया ,नक्सलियों को भी नुकसान पहुंचाया, अपनी जान बचाई, हथियार बचाया,हिम्मत नहीं हारे,जिसके फलस्वरूप जवानों का एवं पुलिस का बड़ा नुकसान नहीं हुआ,हमें अपने पुलिस पर ओर जवानों पर फक्र है।उन्होंने कहा भविष्य में इस तरह की घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं हो इस बात का सरकार पूरा ध्यान रखेगी ।
एक प्रश्न के जवाब में रामेश्वर उरांव ने कहा कि अपने घोषणापत्र में बीजेपी को यह लिख देना चाहिए कि जनादेश कुछ भी प्राप्त हो सरकार भाजपा की बनेगी ताकि देश के लोग और दुनिया के भी लोग यह जान सके कि किस तरह से भारतीय जनता पार्टी लोकतंत्र के साथ खिलवाड़ कर रही है।
बेरमो एवं दुमका चुनाव के संदर्भ में उन्होंने कहा कि लोगों ने आश्वस्त किया है कि हमने 5 साल के लिए आपको जनादेश दिया था,लोगों ने हमें पूरी तरह से आस्वस्त किया है। उन्होंने यह भी कहा कि जिस तरह से भारतीय जनता पार्टी व्यक्तिगत आरोप लगा रही है सही नहीं है,और खासकर जब हमारे प्रधानमंत्री जी अमर्यादित शब्दों का प्रयोग करते हैं और पिता को लेकर पुत्र के ऊपर असंसदीय शब्दों का प्रयोग करते हैं तो वह काफी निंदनीय है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *