तेजस्वी यादव नहीं हो सकते महागठबंधन के नेता : मांझी

बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले ही विपक्ष में दंगल है. एक दूसरे पर बयानबाजी करने का सिलसिला शुरू हो गया है.महागठबंधन के घटक दल हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष सह पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने आरजेडी नेता तेजस्वी यादव पर आरोप लगाया कि एनडीए और खासकर बीजेपी के प्रति उनके दिल में ‘सॉफ्ट कार्नर’ है. साथ ही मांझी ने यह भी स्पष्ट किया कि अगले साल होने वाले राज्य विधानसभा चुनावों में महागठबंधन के नेता के तौर पर तेजस्वी उनकी पसंद हैं, लेकिन इस पर अंतिम फैसला महागठबंधन के नेता करेंगे.

गुरुवार को कटिहार के आजमनगर में कार्यकर्ता सम्मलेन के लिए पहुंचे मांझी ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए आरजेडी नेता तेजस्वी पर आरोप लगाया कि बिहार विधानसभा के मॉनसून सत्र के बाद से ही उनका लक्षण सही नहीं है. लगता है एनडीए खासकर बीजेपी को लेकर उनके दिल में सॉफ्ट कार्नर है. उन्होंने कहा कि नाथनगर में अजय राय ही उनकी पार्टी के उम्मीदवार होंगे. हम अब पीछे नहीं जा सकते.

मांझी ने दावा किया कि जनता की राय और महागठबंधन के सभी नेताओं के साथ चर्चा करके भागलपुर के नाथनगर से अजय राय को प्रत्याशी बनाने की घोषणा कर दी थी लेकिन महागठबंधन का नेतृत्व कर रहे आरजेडी ने उन्हें बगैर जानकारी दिए वहां पर अपना प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतार दिया. उन्होंने कहा कि आरजेडी के इस कदम से महागठबंधन में शामिल विकासशील इंसान पार्टी सुप्रीमो मुकेश सहनी और आरएलएसपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा भी नाराज हैं.

मांझी को हालांकि अब भी उम्मीद है कि 28 सितम्बर को पटना में होने वाली महागठबंधन की बैठक में इस खटपट को दूर कर लिया जाएगा. अगले साल होने वाले बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन के नेता के चेहरे के सवाल पर उन्होंने कहा कि निजी तौर पर तेजस्वी उन्हें पसंद हैं लेकिन इसका आखिरी फैसला महागठबंधन को करना है.

बता दें कि बिहार की पांच विधासनभा सीटों पर उपचुनाव होने हैं. महागठबंधन में इसको लेकर तालमेल नहीं बन पा रहा है. आरजेडी ने चार सीटों पर अपने उम्मीदवार उतार दिए हैं. कांग्रेस ने भी कहा कि वह पांचों सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *