डबल डिजिट में जीत के लिए आजसू का मिशन 2019, पिछड़ों के बीच आधार का विस्तार कर आजसू ने बढ़ाई सियासी ताकत

सुदेश महतो प्रदेश के पिछड़ों के सबसे असरदार नेता हैं, जो लगातार 27 फीसदी आरक्षण के सवाल पर मुखर रहे हैं. सरकार के साथ रहकर भी इन्होंने हमेशा पिछड़ों के साथ हो रही नाइंसाफी के मुद्दे को उठाया. पिछले दिनों मुख्यमंत्री से मुलाक़ात कर सुदेश ने एकबार फिर पिछड़ों के 27 फीसदी आरक्षण के सवाल को उठाया, हालांकि उन्होंने एससी तथा एसटी समाज के लिए भी आरक्षण सीमा बढाने की जोरदार वकालत की. आजसू ने एनडीए फोल्डर में रहकर 20 सीटों पर लड़ने की तैयारी की है और इस संबंध में भाजपा नेतृत्व को बता भी दिया है. कोयलांचल, कोल्हान और कई अन्य क्षेत्रों में आजसू के आधार को देखते हुए विश्लेषक आजसू के दावे को न्यायोचित कह रहे हैं. गिरिडीह लोकसभा सीट जीतकर आजसू ने कुडमीलैंड की अपनी बादशाहत को साबित भी किया.

लेकिन भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ के कुछ बयान आजसू समर्थकों को पसंद नहीं आये, जिसके बाद आजसू के कई नेताओं ने सभी सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कही. लेकिन हमेशा एनडीए की विश्वसनीय पार्टनर रही आजसू उचित प्लेटफार्म पर अपनी बात उठती रही है. आजसू का इस बार डबल डिजिट में चुनाव जीतने की मुकम्मल तैयारी है और पार्टी लगातार चुने हुए क्षेत्रों में कार्यक्रम चला रही है. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के दिन से आजसू पार्टी राज्य के सभी विधानसभा क्षेत्रों में स्वराज स्वाभिमान जनादेश यात्रा निकाल रही । इस यात्रा के जरिए गांधी के स्वराज की अवधारणा को पार्टी ने मजबूती से उठाया साथ ही सामाजिक न्याय और झारखंड के क्षेत्रीय सवालों तथा विचारों के आधार पर जनमत तैयार करने की पूरी तैयारी की ।

स्वराज स्वाभिमान जनादेश यात्रा की कमान खुद पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने संभाली। इसके अलावा पार्टी के सांसद, विधायक, केंद्रीय पदाधिकारी और जिला अध्यक्षों, सचिवों के साथ सभी सहयोगी इकाई के नेता, कार्यकर्ता ने इस कार्यक्रम में शिरकत किया । 2018 में ही दो अक्तूबर को सुदेश महतो ने स्वराज स्वाभिमान यात्रा की शुरुआत की थी। पार्टी का मानना है कि महात्मा गांधी की 150वीं जंयती राजनीतिक और सामाजिक तौर पर भागीदारी बढ़ाने तथा लोगों के बीच विश्वास और सहयोग का संबंध कायम करने का एक मुकम्मल मौका है। और पार्टी के सभी नेता, कार्यकर्ता इस दौरान झारखंड के नवनिर्माण का संकल्प दोहराएंगे। इस यात्रा के जरिए उन विषयों के मूल्यांकन भी किए जाएंगे जिन्हें इस राज्य में मौके और वक्त के हिसाब से मोड़े जाते हैं या फिर छोड़े जाते हैं।

अगले कुछ ही दिनों में झारखंड में विधानसभा चुनाव है। लिहाजा आजसू पार्टी इस यात्रा के जरिए स्वराज, स्वाभिमान के मूल मंत्र के साथ जनादेश के लिए आम लोगों के बीच गयी । इसी यात्रा के जरिए पार्टी के प्रशिक्षित कार्यकर्ताओं ने लोगों को बताया कि झारखंड में पिछड़े, अनसूचित जनजाति तथा अनूसचित जाति की आरक्षण की सीमा 73 फीसदी करने के लिए पार्टी अपनी प्रतिबद्धता पर कायम है। इस यात्रा के साथ पार्टी के कार्यकर्ता घर-घर पहुंचे और पार्टी के विचारों और चुनावी एजेंडे की भी जानकारी सबको दी ।

आजसू हमेशा झारखंड राज्य के किसान, मजदूर, महिला, व्यापारी, छात्र, खिलाड़ी के अलावा सामाजिक, सांस्कृतिक सरोकारों और आंदोलनों से जुड़े लोगों को साथ लेकर आगे बढ़कर एक सशक्त और जनप्रिय सरकार बनाने में सबकी भूमिका चाहती है। पार्टी का मानना है कि राज्य में हर वर्ग के लोगों को समानुपातिक भागीदारी उसकी आबादी के अनुपात में मिले, इसके लिए आजसू पार्टी लगातार संघर्षरत है. ऐसे में आजसू के कार्यकर्ता पार्टी के मिशन 2019 के लक्ष्य को लेकर आश्वस्त हैं ।

ऐसे ही एक कार्यक्रम के दौरान आजसू के केन्द्रीय उपाध्यक्ष हसन अंसारी ने कहा कि संविधान में सबों के लिए समानता के अवसर दिए गए हैं। आजसू पार्टी ने पहले स्वराज के लिये संघर्ष किया था, अब पिछड़ा वर्ग के लिए 27 प्रतिशत, अुनसूचित जनजाति के लिए 32 प्रतिशत और अुनसूचित जाति के लिए 14 प्रतिशत आरक्षण के लिए आवाज बुलंद कर रही है। हसन ने कहा कि पार्टी कार्यकर्ता जनता के बीच जाकर पार्टी के संदेशों को रखें. चुनाव परिणाम पार्टी की उम्मीदों के अनुरूप होगा।

किस नेता ने कहां यात्रा की अगुवाई की –

पार्टी अध्यक्ष श्री सुदेश कुमार महतो तमाड़ तथा सिल्ली में, सांसद चन्द्र प्रकाश चौधरी रामगढ तथा माण्डू में, मंत्री रामचन्द्र सहिस जुगसलाई तथा ईचागढ़ में, विधायक राजकिशोर महतो टुंडी तथा डुमरी में, पूर्व मंत्री उमाकांत रजक चंदनकियारी में, पार्टी के महासचिव लम्बोदर महतो गोमिया तथा बेरमों में, रौशनलाल चौधरी बड़कागांव में, केंद्रीय उपाध्यक्ष हसन अंसारी, नजरूल हसन हासमी एवं डॉ दीपक कुशवाहा हटीया में, केंद्रीय प्रवक्ता डॉ देवशरण भगत खिजरी में, केंद्रीय महासचिव राजेंद्र मेहता कांके एवं मांडर में, केंद्रीय सचिव रफिक अनवर जमशेदपुर में, धनबाद जिला अध्यक्ष मंटू महतो सिंदरी में, सुभाष राय बाघमारा में, स्वपन सिंहदेव चक्रधरपुर में, सुबोध प्रसाद लोहरदगा में, विकास राणा सिमरिया में, प्रो0 श्याम मुर्मू मंझगांव में, सागेन हांसदा मनोहरपुर में, सतीश कुमार पलामू में, गुप्तेश्वर ठाकुर गढ़वा में, इम्तियाज अहमद नजमी पांकी में, सहित अन्य विधानसभा क्षेत्रों में भी पार्टी के वरीय नेता पदयात्रा में शामिल हुए।

पिछड़ा समाज की न्यायोचित मांगों के समर्थन में आजसू ने हमेशा ही आवाज़ उठाई है. 23 सितंबर को आजसू पार्टी के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश कुमार महतो ने गोमिया विधानसभा के कसमार में स्वर्गीय बिनोद बिहारी महतो के प्रतिमा का अनावरण किया। इसके बाद करगली, फुसरो में आयोजित बेरमो विधानसभा के  बूथ प्रभारीयों के बैठक में वो शामिल हुए।बोगला, चंदनकियारी में आयोजित स्वर्गीय विनोद बिहारी महतो के जयंती समारोह मे में भाग लेकर उन्होंने जन समूह का आह्वान किया कि स्व. बिनोद बिहारी महतो के सपनों का झारखंड सभी मिलकर बनायेंगे ।

सरकार के साथ रहकर भी आजसू ने आमलोगों के साथ हुए किसी भी अन्याय पर तुरत सवाल उठाया है. रांची में जब आंगनबाड़ी सेविकाओं के शांतिपूर्ण प्रदर्शन पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया तो आजसू ने दलगत भावना से ऊपर उठकर इस घटना को अत्यंत दुखद और शर्मनाक बताया। आजसू ने कहा कि आंगनबाड़ी सेविकाओं के प्रति सकारात्मक सोच रखते हुए तथा वार्ता कर मसले का हल निकाला जाना चाहिए न कि लाठी चार्ज किया जाना चाहिए। पार्टी ने राज्य सरकार से मांग की कि एक उच्चस्तरीय कमिटी बनाकर इस घटना की जांच करते हुए अविलम्ब दोषियों पर कार्रवाई सुनिश्चित किया जाना चाहिए। 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *