जम्मू-कश्मीर में सेना के तीन ऑपरेशन, अबतक 3 आतंकी ढेर, टारगेट पर पांच

कश्मीर में जबरदस्त घेराबंदी से बौखलाए आतंकी अब बेकसूरों को बंधक बनाने जैसी कायराना हरकत पर उतर आए हैं. जम्मू-श्रीनगर हाईवे पर रामबन के बटोत इलाके में आतंकियों ने शनिवार को एक शख्स को बंधक बना लिया, जिसे सुरक्षाबलों ने छुड़ा लिया. उधर गांदरबल में भी मुठभेड़ हुई है, जहां 3 आतंकियों को मार गिराया गया है. आतंकियों ने श्रीनगर के डाउनटाउन में सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड हमला किया है. आतंकी साजिश को देखते हुए श्रीनगर में सुरक्षाबलों की मुस्तैदी बढ़ा दी गई है. साथ ही श्रीनगर समेत कई इलाकों में पाबंदियां दोबारा लगा दी गई हैं.

घर में घुसे आतंकी, लोगों को बनाया बंधक

जम्मू-कश्मीर के बटोत इलाके में आतंकवादी एक घर में घुस गए और लोगों बंधक बना लिया. जिसके बाद सुरक्षाबलों ने पूरे इलाके का घेराव कर लिया है. शुरुआती जानकारी के मुताबिक बताया जा रहा है कि 5 आतंकी ग्रेनेड हमला करने के बाद घर में घुसे और सुरक्षाबलों ने उनका पीछा करते हुए घेर लिया है. शुरुआती रिपोर्ट्स के मुताबिक तीनों आतंकी विजय कुमार नाम के शख्स के घर में घुसे. उस वक्त उनके परिवार के अन्य लोग घर से बाहर थे. इसके बाद आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू कर दी.

जवाब में पुलिस और सेना ने भी आतंकियों को निशाना बनाकर गोलीबारी की. सुरक्षाबलों ने विजय कुमार को सुरक्षित बचा लिया. इंटेलिजेंस के सूत्रों के मुताबिक ये तीनों आतंकवादी उसी समूह का हिस्सा हैं, जो डोडा-बटोत रोड पर हलडानू एनकाउंटर साइड से फरार हुए थे. ये आतंकवादी घने जंगलों में 9 किलोमीटर तक पैदल चलते हुए विजय कुमार के घर पहुंचे. उनका घर जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर स्थित बटोत बस अड्डे से महज 300 मीटर दूर है.

आतंकी बटोत के जिस घर में घुसे हैं उसके पड़ोस के घर में रहने वाले एक शख्स ने कहा, बंदूकों के साथ तीन लोग हमारे बराबर वाले घर में घुसे, परिवार के बाकी लोग बाहर आ गए लेकिन उनके पिता अंदर बंधक हैं. रामबन इलाके में भी आतंकियों की ओर से फायरिंग जारी है.

बटोत इलाके में हो रही बारिश के कारण सुरक्षाबलों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. बंधक बनाए गए विजय कुमार पेशे से दर्जी हैं और उनका बेटा अतुल कुमार रामबन जिले के बटोत में केबल का बिजनेस करता है. सुरक्षाबलों ने इलाके को चारों ओर से घेर लिया है और जम्मू और रामबन की ओर से आने वाले ट्रैफिक को भी रोक दिया गया है. स्थानीय लोगों से घरों के अंदर रहने को कहा गया है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *