चतरा : अपहृत मुंशी मुक्त, पुलिस ने कहा नक्सलियों ने नहीं अपराधियों ने दिया था घटना को अंजाम

देर रात हुए कंस्ट्रक्शन कंपनी के मुंशी के अपहरण मामले में पुलिस को बड़ी सफलता हाँथ लगी है। पुलिस ने मामले में तत्परता दिखाते हुए घटना के महज पांच घंटों के भीतर अपहृत मुंशी संपत को सकुशल बरामद कर लिया है। इस बाबत हंटरगंज थाना में आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में पुलिस निरीक्षक सुजीत कुमार ने बताया कि कंस्ट्रक्शन कंपनी के मुंशी का अपहरण नक्सलियों ने नहीं बल्कि अपराधियों के गिरोह ने किया था। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में दहशत फैलाने के उद्देश्य से सक्रिय अपराधियों के एक गिरोह ने नक्सलियों के नाम का सहारा लेकर घटना को अंजाम दिया था। ताकि कंपनी के मालिक से फिरौती के रूप में मोटी रकम वसूली जा सके। लेकिन घटना के बाद से क्षेत्र में लगातार चलाए जा रहे विशेष छापेमारी अभियान से घबराकर अपराधियों ने आधी रात को अपहृत मुंशी को छोड़ दिया। इंस्पेक्टर ने बताया कि घटना को अंजाम देने वाले अपहर्ताओं ने मुंशी को थाना क्षेत्र के चकला गांव से छोड़ा है। जिसके बाद पुलिस ने उसे सकुशल बरामद कर घर पहुंचा दिया है। गौरतलब है कि देर रात झारखंड बिहार सीमा पर स्थित हंटरगंज थाना क्षेत्र के गोसाईडीह इलाके में लंबे समय से बंद पड़े जयशंकर कंस्ट्रक्शन की देखरेख करने मुंशी संपत बोड़ा डैम इलाके में गया हुआ था। वहीं से हथियारबंद अपराधियों ने खुद को पीएलएफआई नक्सली बताकर उसका अपहरण कर लिया था। जिसके बाद कंट्रक्शन कंपनी के मालिक श्रीनिवास सिंह से फोन पर मुंशी को रिहा करने के एवज में दस लाख रुपए फिरौती की मांग की गई थी। जिसकी जानकारी कंस्ट्रक्शन कंपनी के मालिक ने पुलिस को देते हुए कार्रवाई की मांग की थी। मुंशी की रिहाई से कंस्ट्रक्शन कंपनी के मालिक के साथ साथ पुलिस ने राहत की सांस ली है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *