चतरा,खूंटी,कोडरमा और धनबाद में भाजपा देगी नए चेहरे

मिशन-2019 को फताह करने की जुगत में भाजपा झारखंड में चार सीटों पर अपने पुराने चेहरे को बदल कर नए चहरे पर दाव खेल सकती है. इनमें रांची, खूंटी, कोडरमा और धनबाद सीट है। चतरा सांसद को वहां से बदल कर धनबाद सीट देने पर भी मंथन चल रहा है। दिल्ली में मंगलवार को भाजपा कोर कमेटी के सदस्य एक साथ बैठे और इस पर विचार विमर्श किया गया, लेकिन कोई फैसला नहीं लिया जा सका है।

अंतिम निर्णय केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में होगा, जिसके बाद प्रत्याशियों की सूची जारी की जाएगी। होली के बाद 22 मार्च को सूची जारी किए जाने की संभावना है। मंगलवार को भी दिल्ली में केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक हुई, जिसमें हिस्सा लेने के लिए मुख्यमंत्री रघुवर दास, प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा, प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल जी और लोकसभा चुनाव प्रभारी मंगल पांडेय गए, लेकिन वहां कहा गया कि झारखंड में चौथे चरण से चुनाव शुरू होना है, इसलिए आज इस पर चर्चा नहीं होगी।

इससे पहले कोर कमेटी के सदस्य केंद्रीय संगठन मंत्री रामलाल की अगुवाई में जुटे। इसमें केंद्रीय सह संगठन मंत्री सौदान सिंह, मुख्यमंत्री रघुवर दास, प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा, प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल, पूर्व मुख्यमंत्री अर्जुन मुंडा, केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा और सुदर्शन भगत थे। इसमें सहयोगी दल आजसू के साथ राज्य की सभी 14 सीटों पर विजय हासिल करने के लिए कुछ पुराने चेहरों को बदलने पर विचार किया गया।

कहा गया कि केंद्र में भाजपा की सरकार बनाने के लिए यह जरुरी है कि लीक से हटकर वैसे प्रत्याशी को टिकट दिया जाए, जिसके जीतने की संभावना ज्यादा हो। इसी क्रम में चतरा सीट से प्रत्याशी बदलने और रांची, खूंटी, कोडरमा एवं धनबाद में नये चेहरे लाने का प्रस्ताव भी रखा गया। सदस्यों ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह की उपस्थिति में केंद्रीय चुनाव समिति ही प्रत्याशियों के नाम पर मुहर लगाएगी। केंद्रीय नेतृत्व ने भी अपनी ओर से एक लिस्ट तैयार करा कर रखा है।

कोर कमेटी ने प्रदेश चुनाव समिति की ओर से अनुशंसित नामों पर जातीय समीकरण के साथ-साथ जीत के दृ़ष्टिकोण से विचार किया। प्रत्येक सीट के लिए तीन-तीन नामाें का पैनल बनाया गया। अब इन नामों को केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक में रखा जाएगा। गौरतलब है कि प्रदेश चुनाव समिति ने जमशेदपुर और लोहरदगा से सिर्फ एक-एक नाम की अनुशंसा की थी। लेकिन लोहरदगा में सुदर्शन भगत के अलावा स्पीकर दिनेश उरांव और विधायक शिवशंकर उरांव का नाम भी जोड़ दिया गया है। इसी तरह जमशेदपुर के लिए सिर्फ विद्युत वरण महतो का नाम था। अब उसमें दिनेशानंद गोस्वामी और राजकुमार सिंह का नाम जोड़ा गया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *