क्या बिहार में भी सभी 40 सीटों पर लड़ेगी कांग्रेस

क्या यूपी और बंगाल के बाद अब बिहार में भी कांग्रेस अकेले लड़ेगी! पार्टी के अंदर से मिल रही जानकारी तो कुछ ऐसा ही बयान कर रही है. जानकारी के अनुसार पार्टी ने बिहार की सभी 40 सीटों के लिए संभावित प्रत्याशियों के नाम भेजने के लिए प्रदेश को कहा है. बताया जा रहा है कि कांग्रेस नेताओं ने राजद के आगे और नहीं झुकने का फैसला किया है. अगर ऐसा हुआ तो भाजपा विरोधी मत बंटेंगे.

राजद और अन्य सहयोगियों के लगातार बढ़ते दवाब के बीच कांग्रेस ने भी बिहार में अकेले चलने की तैयारी कर ली है. राजद की और से भी एक वैकल्पिक गठबंधन की बात कही जा रही है, जिसमें कांग्रेस को उसके हाल पर छोड़कर साथी दलों को मनमाफिक सीटें मिल सकती हैं. सूत्र बताते हैं कि अगर ऐसा हुआ तो रालोसपा को पांच, हिन्दुस्तानी आवाम मोर्चा (हम) को तीन और एक नवादा विधानसभा सीट एवं विकासशील इंसान पार्टी को दो सीटें मिल सकती हैं. वामदलों से भी बातचीत जारी है. तेजस्वी लगातार दीपंकर भïट्टाचार्य के संपर्क में हैं. बात बनी तो माले को आरा और जहानाबाद की सीटें दी जा सकती हैं। भाकपा को भी एक बेगूसराय सीट देने के लिए तेजस्वी तैयार हैं. शरद यादव की पार्टी के लिए भी एक सीट छोड़ी जा सकती है. 

कांग्रेस के सूत्र का दावा है कि राजद के चलते गठबंधन टूटने की आशंका बढ़ गई है. कांग्रेस का कहना है कि वह 11 से कम पर तैयार नहीं होगी और राजद प्रमुख लालू प्रसाद का संदेशा है कि आठ से ज्यादा देना संभव नहीं है. मामला यही पर अटका है. कांग्रेस का दावा है कि राजद ने सोच-समझकर कांग्र्रेस के लिए 11 सीटों पर सहमति दी थी. अब उससे पीछे हटने का सवाल नहीं है. तल्खी के माहौल में कांग्रेस ने राजद को दो दिनों का वक्त दिया था, जिसमें अब कुछ ही घंटे शेष हैं. ऐसे में आज मंगलवार को कुछ भी सियासी अनहोनी घट सकती है. इस बीच मधेपुरा के सांसद पप्पू यादव ने कांग्रेस को अकेले ही लड़ने की सलाह दी है. आज तेजस्वी यादव भी पटना लौट रहे हैं. ऐसे में जानकार मान रहे हैं कि कांग्रेस बिहार में अपने कार्यकर्ताओं के मनोबल को ऊँचा करने के लिए सभी सीटों पर लड़ सकती है.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *