कृषि कानून को रद्द कर ही भाजपा के कुचक्र को धवस्त करना होगा : डॉ.रामेश्वर उरांव

प्रदेश कांग्रेस द्वारा प्रस्तवित किसान अधिकार दिवस की सफलता के लिए मंगलवार को कांग्रेस के आग्रणी मोर्चा एवं प्रकोष्टों की अध्यक्षों के साथ गहन विचार विर्माश किया गया। सभी प्रकोष्ठों एवं मोर्चा के अध्यक्षों के यह निर्देश दिया गया कि अपने-अपने संगठन एवं विभागों से किसान एवं युवाओं की अधिक से अधिक भागीदारी सुनिश्चित करें। बैठक की अध्यक्षता झारखण्ड प्रदेश कांग्रेस के अग्रणी मोर्चा के प्रभारी रविन्द्र सिंह ने किया।
बैठक की जानकारी देते हुए प्रवक्ता राकेश सिन्हा ने कहा कि बैठक को संबोधित करते हुए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ. रामेश्वर उरांव ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने कृषि विरोधी कानून पर स्टे लाकर देश के अन्नदाताओं के अधिकार एवं भविष्य की सुरक्षा को सुनिश्चित करने की दिशा में कदम उठाया. लेकिन यह काफी नहीं है। कृषि कानून को रद्द कर ही भाजपा के कुचक्र को धवस्त करना होगा. क्योंकि कृषि क्षेत्र में भाजपा पूंजीवाद को बढ़वा देकर अन्नदाताओं को गुलाम बनाना चाहती है। क्योंकि जब मोदी सरकार कानूनों में 18-18 संशोधन करने में तैयार है तो यह साफ है ये कानून गलत है। तो प्रधानमंत्री मोदी और भाजपा सरकार इनको निरस्त करने इनको खारिज करने की घोषणा करने से गुरेज क्यों कर रही है।
यह पूंजीपतियों के सिक्कों की खनक के आगे इस देश की सरकार का जमीर बिक गया है। उन्होंने ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री अपना नकाब उतारे, अपन राजहट छोड़े पंूंजीपतियों का पलू छोडे और किसानो को दामन पकड़े। डाॅ. उरांव ने कहा कि लाखों की संख्या में दिल्ली की सीमा पर बैठे हमारे किसान भाई से प्रधानमंत्री मांफी मांगे और 65 किसानों को ़श्रद्धांजलि देकर कानून को खत्म करें।
बैठक को संबोधित करते हुए संगठन प्रभारी रविन्द्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस किसानों की कृषि मांफी कर यह साबित किया कि हम देश के अन्नदाताओं के आंखों में अंसु नहीं देख सकतें वहीं दूसरी ओर मोदी सरकार सड़कों पर किसानों शाहदत ले रही है। बैठक में उपस्थित कार्यकारी अध्यक्ष मानस सिन्हा, संजय लाल पासवान, रविन्द्र सिंह, प्रदीप तुलस्यान, कुमार गौरव, रमा खलखो, गुंजन सिंह, अमेन्द्र सिंह, नेली नाथन, अभिलाष साहू, इंद्रजीत सिंह, सतीश पाॅल मुंजनी, सुनील सिंह, अख्तर अली, सलीम खान, जगदीश साहू, प्रवेज आलम, विनजंय भारती बल्कू, बेलस तिर्की, तपेश्वर नाथ मिश्र, कौशल किशोर, उषा पासवान, केदार पासवान, जितेन्द्र त्रिवेदी, देवजीत देघरिया, राजू राम, शिव उरांव, मदन कुमार महतो, प्रणव राज, जगरनाथ साहू, राजेश चंद्र राजू, वशिट लाल पासवान,मुशतकीम अंसारी, राजेश कुमार चैवरसीया आदि उपस्थित थे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *