अगर मैंने झारखण्ड में कहीं भी सीएनटी/एसपीटी एक्ट का उल्लंघन कर जमीन ली है तो मैं राजनीति से सन्यास ले लूंगा : रघुवर दास

झारखंड मुक्ति मोर्चा ने वर्षों से संथाल परगना को चारागाह बनाया हुआ है। जेएमएम के नेताओं ने संथाल समाज के सीधे साधे भोले भाले लोगों को बहला-फुसलाकर सिर्फ अपनी मत पेटी भरी और गरीब आदिवासी को मौत की पेटी में छोड़ दिया। आदिवासियों के विकास पर ध्यान नहीं दिया। मैं तो चुनौती देता हूं, जेएमएम बताय सीएनटी/एसपीटी एक्ट का उल्लंघन कर झारखंड में कहीं भी अगर मैंने जमीन ली है तो मैं राजनीति से संन्यास ले लूंगा। सीएनटी एसपीटी एक्ट का उल्लंघन करने वाला लूटेरा झारखंड मुक्ति मोर्चा गरीब आदिवासियों में भ्रम फैलाता है कि बीजेपी आएगा तो जमीन ले लेगा। आप बताइए 5 साल हो गए। हमने किसी का जमीन नहीं ली। यह भ्रम फैला कर झारखंड मुक्ति मोर्चा विकास से संथाल परगना के आदिवासियों को दूर करता है। यही वजह है कि उन्होंने आपके घर बिजली, शिक्षा और मूलभूत सुविधाएं नहीं पहुंचाई। ताकि आपका विकास ना हो। खुद का विकास इन्होंने किया। सीएनटी एसपीटी एक्ट का उल्लंघन कर झारखंड मुक्ति मोर्चा, सोरेन परिवार ने किया है। उनसे आप पूछें। एसपीटी एक्ट में तो आदिवासी आदिवासी को जमीन नहीं बेच सकता है। बरहेट का विधायक बनने के बाद पतना में 5 एकड़ गरीब आदिवासी की जमीन पर करोड़ों रुपये का आलीशान मकान कैसे बनाया। दुमका, पाकुड़िया, धनबाद, बोकारो, रांची में कैसे सीएनटी/एसपीटी एक्ट के उल्लंघन कर करोड़ों रुपये की जमीन ले ली। जमीन लूटने का नारा देने वालों ने ही सबसे ज्यादा जमीन लूटी है। सरकार ने इस संबंध में सोरेन परिवार को पत्र भेजा है, जिसका जवाब सरकार को प्राप्त नहीं हुआ है। अगर जवाब नहीं आता है तो विधि सम्मत कार्रवाई कर सभी जमीन आदिवासियों को वापस करने की प्रक्रिया आरम्भ होगी। ये बातें रघुवर दास ने बरहेट विधानसभा क्षेत्र के सुंदर पहाड़ी में आयोजित जनसभा में कही।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *