अकलियतों को इंसाफ की बात पर हमाम में सब नंगे : ओवैसी

भागलपुर की सरजमीं पर इतनी बड़ी तादात में नौजवान आए हैं, उन्हें मैं बताना चाहता हूं कि मैं यहां की उस बहादुर मल्लिका बेगम को सलाम करने आया हूं, जिसने चन्दर मैंसकर में ना सिर्फ आपना एक पैर खोया। उनके खानदान में सत्रह बहादुर अफ़राजे खानदान को कतल कर दिया गया था। इन अल्फाजों के साथ नाथनगर के चर्च मैदान में एआइएमआइएम सुप्रीमो असद्दुदीन ओवैसी ने भागलपुर विधानसभा से रालोसपा प्रत्याशी सैय्यद शाह अली सज्जाद एवं नाथनगर विधानसभा से बसपा प्रत्याशी अशोक कुमार आलोक के पक्ष में शुक्रवार की दोपहर चुनावी सभा को संबोधित किया। उन्होंने ग्रैंड सेक्युलर अलायंज के प्रत्याशियों को वोट देकर जीतने की अपील की। इस दौरान उन्होंने कांग्रेस, राजद और भाजपा पर जमकर जुबानी प्रहार किया। 1989 के दंगे का जिक्र करते हुए ओवैसी ने कांग्रेस को आड़े हाथों लिया कहा, कांग्रेस ने कत्लेआम में बहुत जुर्म किया था। आज भागलपुर के खेतों में हज़ारों लाशें अब भी दफ़न है, जिन्हें इंसाफ नहीं मिला। तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी ने तत्कालीन एसपी द्विवेदी साहब को ससपेंड कर दिया और फिर संघ परिवार के दबाव में उनका सस्पेंशन वापस ले लिया। उसके बाद जो यहां दंगा-फसाद और नंगा नाच हुआ, एक हज़ार से पंद्रह सौ लोगों को कत्लेआम कर खेतों में दफना दिया गया। उस वक़्त केंद्र और राज्य में कांग्रेस की ही सरकार थी और आज तक दंगा पीड़ितों को इंसाफ नहीं मिला। वहीं, जब राज्य में राजद की सरकार आई तो उन्होंने भी दंगा के आरोपितों पर कोई कार्रवाई नहीं की, क्योंकि वो सब उनके अपने खास लोग थे। वहीं, नीतीश कुमार के राज में दंगे के समय के तत्कालीन पुलिस कप्तान एस के द्विवेदी को बिहार का डीजीपी बना दिया। नीतीश के पंद्रह साल के कार्यकाल पर तंज कसते हुए कहा कि उन्होंने बिहार को बदहाली की ओर धकेल दिया। जबकि, कांग्रेस और उसके नेतृत्व को नाकाम बताते हुए केंद्र की मोदी सरकार को आगे बढ़ाने का आरोप लगाया। कांग्रेस के वोटर मोदी भक्ति में लीन होकर भाजपा को वोट करते हैं। उन्होंने कहा कि जब अकलियतों की बात आती है, तो इस हमाम में सब नंगे हैं। जदयू और राजद के 30 साल के कार्यकाल ने बिहार और बिहार की जनता को हासिये पर लाकर खड़ा कर दिया। ओवौसी की सभा के दौरान हज़ारों की संख्या में भीड़ जुटी थी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *